दलितों के साथ हो रहे अत्याचार पर प्रधानमंत्री चुप क्यों: राहुल गांधी

दिल्ली ब्यूरो: कर्नाटक के शिमोगा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर बरसे। पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री दलितों के साथ हो रहे अत्याचार पर चुप क्यों हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने संबोधन में कहा कि गुजरात में दलितों की पिटाई होती है, रोहित वेमुला की हत्या होती है और एससी/एसटी एक्ट को रद्द कर दिया जाता है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ नहीं बोलते हैं। उन्होंने बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा। राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री चीन के राष्ट्रपति को झूला झुलाते हैं, उनकी 56 इंच की छाती है, फिर भी चीन दोकलाम में बार-बार अपनी ताकत दिखा रहा है, लेकिन पीएम के मुंह से एक शब्द नहीं निकल रहा है।

राहुल गांधी ने कहा कि देश के बैंकिग सिस्टम गड़बड़ा गया है। नीरव मोदी और विजय माल्या, जिसे देखो बैंक का पैसा लेकर विदेश भाग रहा है, लेकिन साहब हैं कि कुछ कह नहीं रहे। उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर भी वार करते हुए कहा कि पहली बार अमित शाह ने येदियुरप्पा सरकार को सबसे भ्रष्टाचारी सरकार कहा है और मुझे लगता है कि शाह ने पहली बार सच बोला है।

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष ने कर्नाटक की मौजूदा सिद्धरमैया सरकार की तारीफ में कहा कि आज कर्नाटक में गरीब से गरीब व्यक्ति पेट भर खाना खा सकता है, लड़कियां मुफ्त में शिक्षा ग्रहण कर सकती हैं, जबकि देश में गरीबों का बुरा हाल हो गया है। उन्होंने कहा कि देश में आज नफरत फैलाई जा रही है। राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस प्यार और करुणा से काम करने वाली पार्टी है। नफरत से काम करने वाली नहीं। वहीं देश के प्रधानमंत्री सोचते हैं कि देश को आगे बढ़ाने का तरीका सिर्फ नफरत, गुस्सा, लड़ाई है। लेकिन मैं पीएम को बताना चाहता हूं कि यह देश नफरते के साथ कभी आगे नहीं बढ़ सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper