दिल्ली-एनसीआर, उत्तर-पश्चिम भारत में भारी बारिश की संभावना

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर और पश्चिमी हिमालयी राज्यों सहित उत्तर-पश्चिम भारत में मंगलवार को बहुत भारी से बेहद भारी बारिश हुई और भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने इस क्षेत्र में एक दिन और भारी बारिश का अनुमान जताया है। आईएमडी ने यहां एक विज्ञप्ति में कहा कि जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बुधवार तक भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है और इसके बाद इसमें कमी देखी जाएगी।

आईएमडी के आंकड़ों से पता चला है कि दिल्ली में मंगलवार को सुबह 8.30 बजे तक समाप्त हुए 24 घंटों के बीच दिल्ली सफदरजंग में 100 मिमी बारिश दर्ज की है। इसके बाद पालम में 68 मिमी, लोदी रोड क्षेत्र में 86.8 मिमी, आया नगर में 69.8 मिमी और दिल्ली रिज में 38.2 मिमी बारिश हुई है। सुबह 8.30 बजे से 11.30 बजे तक आया नगर में 23.3 मिमी बारिश हुई।

आईएमडी के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली सफदरजंग में 2003 में अब तक की सबसे अधिक बारिश 632.2 मिमी बारिश हुई थी। हाल के वर्षों में, 2013 में 340.5 मिमी वर्षा दर्ज की गई थी और मंगलवार को इस क्षेत्र में कुल 380.9 मिमी बारिश दर्ज की गई है। आईएमडी ने यह भी कहा कि ओडिशा, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार में 30 जुलाई तक और पूर्वी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 29 से 31 जुलाई के बीच भारी से बहुत भारी वर्षा के साथ व्यापक रूप से व्यापक वर्षा होने की संभावना है।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि 28 और 29 जुलाई को गंगीय पश्चिम बंगाल में, 29 जुलाई को झारखंड में, 30 जुलाई को छत्तीसगढ़ में और 31 जुलाई को पूर्वी मध्य प्रदेश में भारी बारिश की संभावना है। बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार सुबह भारी बारिश के कारण शहर के कई हिस्सों में जलजमाव हो गया। बारिश के कारण सड़कों पर पानी भरने से यातायात भी प्रभावित रहा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper