दिल्ली पुलिस की इस मानवीय पहल ने सबका जीता दिल

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस की इस बेहद मानवीय पहल ने लोगों के दिल को छू लिया है। दिल्ली में एक ऐसा पुलिस स्टेशन भी है, जो अपराधियों को पकड़ता है और उन्हें प्रशिक्षण दे कर नौकरी दिलाने में भी सहायता करता है। कीर्ति नगर पुलिस स्टेशन के इलाके में लगभग ढाई सौ झुग्गी बस्तियां हैं। इन बस्तियों में रहने वाले बहुत सारे बच्चे कुछ मजबूरी और कुछ संगत की वजह से अपराधों में लिप्त हो जाते हैं। शक्ति नगर थाने ने इन्हें रोजगारपरक प्रशिक्षण दे कर उनके जीवन में नई रोशनी पैदा करने की अनूठी पहल की है।

कीर्ति नगर थाना पुलिस ने पिछले दिनों जाने-अनजाने अपराध की दुनिया में कदम रखने वाले बच्चों को थाने में ही विभिन्न रोजगारों का प्रशिक्षण देना शुरू किया। इसके बेहद आश्चर्यजनक नतीजे सामने आए। स्थानीय लोगों के लिए यह थाना रोजगार केंद्र में तब्दील हो गया है। कीर्ति नगर के थाना प्रभारी अनिल शर्मा और उनका स्टाफ ऐसे बच्चों पर नजर रखता है, जिन्हें विभिन्न रोजगारों का प्रशिक्षण दे कर अपराध की काली दुनिया से बाहर निकालना संभव हो। इस संवाददाता ने थाने में देखा कि दूसरी मंजिल पर लगभग ढाई सौ नौजवान लड़के-लड़कियां अपने इंटरव्यू का इंतजार कर रहे हैं।

ये युवा इसी थाने में तीन महीनों से कौशल विकास का प्रशिक्षण ले रहे थे। गुरुवार को थाने के बैरक नंबर 209 में अपराधियों की जगह बड़ी कंपनियों के लोग इन युवाओं के इंटरव्यू ले रहे थे। सालभर पहले चोरी के मामले में पकड़ा गया एक लड़का भी इंटरव्यू देने आया। उसने इसी थाने में हार्डवेयर मैकेनिक का तीन महीने का कोर्स किया है। गुरुवार को ढाई सौ छात्रों ने इंटरव्यू दिए। इनमें से दो दर्जन युवाओं का अपराध से जाने-अनजाने वास्ता रहा है। इन्हीं में से एक रजनी (बदला हुआ नाम) है, जो पति के मर्डर के चलते जेल में बंद थी। घरवालों ने निकाल दिया था। वह अब एक बडे़ अस्पताल में नौकरी करने लगी है।

थाने की दूसरी मंजिल पर तीन महीने पहले ढाई सौ बेहद गरीब या पहली बार अपराध करने वाले युवाओं को प्रशिक्षण देने का काम शुरू हुआ था। एसएचओ कीर्ति नगर अनिल शर्मा बताते हैं कि प्रधानमंत्री के स्किल इंडिया के कार्यक्रम से जुड़कर वे इन बच्चों को प्रशिक्षण दिलाते हैं। अब तक के परिणाम बहुत उत्साहजनक रहे हैं। पिछले साल दिल्ली में हत्या, रेप और चोरी जैसे अपराधों में करीब 2300 नाबालिगों को पुलिस ने पकड़ा था। नाबालिगों की बड़े पैमाने पर विभिन्न अपराधों में संलिप्तता को देखते हुए दिल्ली पुलिस का यह कदम मील का पत्थर साबित हो सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper