दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की बिक्री घटने से नाराज पेट्रोल पंप मालिक हड़ताल पर

नई दिल्ली: दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की बिक्री घटने से नाराज पेट्रोल पंप मालिक सोमवार से 24 घंटे के लिए हड़ताल पर चले गए हैं। यह लोग दिल्ली सरकार से पड़ोसी राज्यों की तर्ज पर पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले मूल्य वर्धित कर वैट की दरें घटाने की मांग कर रहे हैं। पंप बंद होने के कारण सड़कों पर टैक्सियां भी नहीं चल रही हैं| इससे लोगों की परेशानी और बढ़ गई है|

दिल्ली पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन (डीपीडीए) के अध्यक्ष निश्चल सिंघानिया ने कहा कि केंद्र सरकार ने देश की जनता को महंगाई से राहत देने के लिए पेट्रोल-डीजल के दाम ढाई रुपये घटाए थे| इसके बाद दिल्ली के पड़ोसी राज्य हरियाणा और उत्तर प्रदेश में भी पेट्रोल डीजल पर वैट की दरों में कटौती कर दी थी| इससे न केवल उन राज्यों की जनता को सस्ती दरों पर पेट्रोल मिलने लगा बल्कि दिल्ली के लोग भी वहां जाकर पेट्रोल डीजल भरवाने लगे हैं| इससे दिल्ली का कारोबार चौपट हो गया है|

सत्ता में आने के बाद रोजगार देने के वादे से मुकर गयी भाजपा : अखिलेश

उन्होंने कहा कि इसकी वजह है कि दिल्ली की तुलना में इन दोनों राज्यों में पेट्रोल और डीजल सस्ती दरों पर उपलब्ध है| सिंघानिया ने कहा कि उपभोक्ताओं के पड़ोसी राज्यों की तरफ रुख करने से दिल्ली में डीजल की बिक्री में 50 से 60 प्रतिशत और पेट्रोल पर 25 प्रतिशत की गिरावट आई है|

उन्होंने कहा कि हड़ताल के दौरान दिल्ली के 400 पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल डीजल और सीएनजी की बिक्री नहीं की जाएगी| डीपीडीए ने दिल्ली सरकार से तत्काल पेट्रोल और डीजल पर वैट की दरें घटा कर राहत देने की मांग की है जिससे दिल्ली के लोगों को सस्ते पेट्रोल के लिए पड़ोसी राज्यों का रुख न करना पड़े।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper