दिल्ली में रात्रि कर्फ्यू : पहली रात पुलिस ने दर्ज किए 220 मामले

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने राजधानी में रात्रि कर्फ्यू को लेकर सख्ती बरतनी शुरू कर दी है। दिल्ली सरकार ने बढ़ते कोरोना के मामले को देखते हुए रात दस बजे से सुबह के पांच बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगा दिया है। घोषणा के बाद दिल्ली पुलिस की टीमें मंगलवार रात से ही सड़कों पर उतर गईं थी और लोगों से अपील करती दिखी कि रात दस बजे के बाद अपने घरों से बेवजह ना निकलें।

मोटरसाइकिल और पीसीआर वाहन से पुलिसकर्मी साढ़े नौ बजे रात से ही उद्घोषणा कर लोगों से घरों में लौट जाने की अपील करने लगे थे। साथ ही हिदायत दे रहे थे कि यदि बेवजह घूमते हुए पाए गए तो लोगों का चालान काटा जाएगा। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिश्वाल ने पहले ही रात को नियमों की अनदेखी करने 220 मामले दर्ज किए गए। इसी प्रकार कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ 534 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई। इसी प्रकार बिना मास्क के 842 लोगों का चालान काटा गया।

प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस की ओर से लोगों को हिदायत दी गई है कि कफ्र्यू के दौरान अपने घरों से बाहर नहीं निकलें। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने जो आदेश जारी किए है। उसका पुलिस सख्ती से पालन करवाएगी। साथ ही लोगों से अपील की है कि समाजिक दूरी का ख्याल रखने के साथ-साथ मास्क पहन कर ही घरों से बाहर निकलें। बेवजह घूमते मिलने पर उनका चालान काटा जाएगा। संभव हो तो अपने दफ्तर से रात दस बजे से पहले घरों को लौट जाएं। इसके साथ ही जिन लोगों को कफ्र्यू में आवाजाही करने की छूट दी गई है। वे दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना ई-पास बनवा लें, ताकि उन्हें आवाजाही करने में दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper