दिल्ली हिंसा को गलत तरीके से प्रसारित करने के लिए दो चैनलों पर लगा प्रतिबंध हटा

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने शनिवार को दो मलयाली भाषा के समाचार चैनल एशियानेट समाचार और मीडियावन के प्रसारण पर शुक्रवार को लगाई रोक को हटा लिया गया। सूत्रों ने बताया कि देशभर में सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के चलते दोनों समाचार चैनलों के प्रसारण पर शुक्रवार को 48 घंटे का प्रतिबंध लगाया गया था, जिसे आज सुबह हटा लिया गया।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने मलयालम समाचार चैनलों एशियानेट समाचार और मीडियावन को उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा को गलत तरीके से प्रसारित करने के लिए शुक्रवार को अगले 48 घंटे तक प्रसारण पर रोक लगायी थी। मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी अपने आदेश में कहा कि टेलीविजनों के प्रसारण के सम्बंध में जारी दिशा निर्देशों का उल्लंघन कर ये खबरें दिखाई गईं थी। इसमें एक समुदाय विशेष के धार्मिक स्थल के हमले की बात कही गयी जिससे समाज मे अशांति फैल सकती थी।

मंत्रालय ने शुक्रवार को साढ़े सात से लेकर रविवार शाम साढ़े सात बजे तक 48 घंटे के लिए मीडिया वन और एशियानेट न्यूज़ के प्रसारण पर रोक लगाने का आदेश दिया था। कांग्रेस ने दोनों चैनलों पर लगे प्रतिबंध लगाने पर सरकार की आलोचना की और कहा कि यह मीडिया की आजादी का हनन है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper