‘दिव्यांगजन चुनौतियाँ सम्मान की’ विषय पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन

गोरखपुर: समेकित क्षेत्रीय केंद्र (दिव्यांगजन)- गोरखपुर, राष्ट्रीय बहुदिव्यांगता जन सशक्तिकरण संस्थान, चेन्नई, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के प्रशासनिक नियंत्रणाधीन दिव्यांगों के सशक्तिकरण और पुनर्वास हेतु कार्यरत केंद्र है। रमेश कुमार पांडेय निदेशक, समेकित क्षेत्रीय केंद्र (दिव्यांगजन), गोरखपुर, के मार्गदर्शन में, राष्ट्रीय बहुदिव्यांगता जन सशक्तिकरण संस्थान, चेन्नई, ने ऑल इंडिया रेडियो गोरखपुर के साथ मिल कर 30 मार्च (शुक्रवार) को “दिव्यांगजन चुनौतियाँ सम्मान की” विषय पर एक दिवसीय सेमिनार कम हाई लेबल डायलॉग का आयोजन किया।

कार्यक्रम की शुरूआत सम्मानित अतिथियों ने दीप प्रज्जवलन के साथ किया। निदेशक रमेश कुमार पांडेय ने सभी अतिथियों को गुलदस्ता और स्मृतिचिन्ह देकर सम्मानित किया और आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में श्री एस. के. श्रीवास्तव, आयुक्त दिव्यांगजन उत्तर प्रदेश, मुख्य अतिथि थे तथा जिला अधिकारी श्री के. विजयेन्द्र पांडियन विशिष्ट अतिथि थे। कार्यकम को संबोधित करते हुए जिला अधिकारी श्री के. विजयेन्द्र पांडियन दिव्यांगता पुनर्वास में अभिभावकों के महत्व को स्वीकार किया कि किसी भी दिव्यांग बच्चे का पुनर्वास बिना माता-पिता के सहयोग के संभव नहीं है।

श्री एस. के. श्रीवास्तव, आयुक्त दिव्यांगजन उत्तर प्रदेश, ने अपने संबोधन में श्रोताओं को शामिल किया तथा उनकी समस्याओं को सुना और उसके निराकरण का आश्वासन दिया। ऑल इंडिया रेडियो गोरखपुर की प्रोग्राम हेड श्रीमती अनामिका श्रीवास्तव ने अपने संबोधन में कहा कि आज दिव्यांगों की सबसे बड़ी आवश्यकता शिक्षा और रोजगार है जो उन्हें मिलना ही चाहिए।

श्रीमती मीनू सिंह जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी गोरखपुर ने विकलांगता पुर्नवास में पुर्नवास व्यवसायिको के महत्व को बताया। श्री राजकुमार सिंह, उप निदेशक, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग ने दिव्यांगजनों के लिये सम्मान और अवसर के महत्व को बताया। डॉक्टर एस. के. तिवारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, गोरखपुर ने जन्मजात दिव्यागता के प्राथमिक पहचान व हस्तक्षेप के महत्व को उजागर किया। श्री नन्द यादव, प्रधानाध्यापक, जुबली इंटर कालेज, गोरखपुर ने दिव्यांगजनों के आत्मबल को पहचानने के महत्व को रेखाकित किया।

श्री रमेश कुमार पांडेय निदेशक, समेकित क्षेत्रीय केंद्र (दिव्यांगजन). गोरखपुर, ने कार्यकम को संबोधित करते हुए सी.आर.सी. गोरखपुर में दिव्यांगता पुनर्वास के क्षेत्र में चल रहे कार्यकमों का व्योरा प्रस्तुत किया तथा भविष्य में दिव्यांगों की हर संभव सहायता हेतु तत्पर रहने का आश्वासन दिया। कार्यकम में गैर पुनर्वास क्षेत्र के विशेषज्ञों ने भी अपना मागदर्शन दिया। कार्यक्रम में 150 से ज्यादा अभिभावक और प्रतिभागियों ने भाग लिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper