दुनियाभर में बैन है ये 5 बोल्ड फिल्में, बॉलीवुड की भी है एक फिल्म शामिल

पूरी दुनियां में तमाम तरीके की फिल्में बनती है जिसमें एक्शन, रोमांस और लव स्टोरी का तड़का होता है. इसमें से कुछ फिल्मे लोगों को पसंद आती है तो कुछ नहीं. उन तमाम फिल्मों में कुछ फिल्में समाज में गलत संदेश देने के साथ ही हिंसी को भी बढ़ावा देती है. चलिए बताते हैं ऐसी ही फिल्मो के बारे में जो भारत सहित कई अन्य देशों में भी बैन है.

फायर- वर्ष 1996 में बॉलीवुड की इस फिल्म में दीपा मेहता के अभिनय को लोगों खूब सराहा था. इस फिल्म में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचा. जिसके चलते शिवसेना और कई हिन्दू संगठनों ने विरोध किया. जिसके चलते इसे भारत में बैन कर दिया गया.

बेसिक इंस्टिंक्ट- वर्ष 1992 में ये फिल्म रिलीज हुई. भारत सहित कई अन्य देशों में ये फिल्म बैन कर दी गई. इस फिल्म में कई बोल्ड सीन दिखाए गए हैं.

लास्ट टैंगो इन पेरिस- ये फिल्म भारत में बैन है. ये एक बोल्ड फिल्म है. इस फिल्म में बोल्ड सीन की भरमार है. ये फिल्म इटली के रोमांटिक नाटक लास्ट टैंगो इन पेरिस पर आधारित है.

डेंजर्स लिएसन्स – ये एक चाइनीज फिल्म है जो वर्ष 2012 में रिलीज हुई थी. इस फिल्म की कहानी एक नोवल पर आधारित है. इस फिल्म की कहानी काफी अच्छी है लेकिन बोल्ड सीन की वजह से इसे भारत में बैन कर दिया गया है.

91/2 week- वर्ष 1886 में ये फिल्म रिलीज हुई. फिल्म की कहानी एलिजाबेथ मैकलीन की रचना 91/2 weeks पर आधारित है. ये फिल्म सेक्सुअल रिलेशन पर आधारित फिल्म है. जिसे बैन कर दिया गया.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper