दुनिया का इकलौता पिता जो देता है बच्चों को जन्म, और मां करती है…

नई दिल्ली: हम सभी जानते हैं प्रकृति के नियम के मुताबिक मादा बच्चे को जन्म देती हैं, लेकिन आपको जानकर हैरत होगी कि इसी दुनिया में एक ऐसा जीव भी है जिसमें बच्चे को जन्म देने की जिम्मेदारी नर की होती है. समुद्र में पाए जाने वाले इस जीव को सी-हॉर्स कहते हैं. यह देखने में घोड़े जैसा लगता है इसलिए इसे सी-हॉर्स कहा जाता है. यह जीव एक बार फिर से इसलिए चर्चा में है.

लंदन के एक समुद्री जीव वैज्ञानिक केलेन डॉयल ने अपनी ताजा रिपोर्ट में दावा किया है कि अगले 10-15 साल सी-हॉर्स दुनिया से विलुप्त हो सकती. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि करीब 70 देश बड़े पैमाने पर इसका शिकार कर रहे हैं. अकेले चीन में रोजाना 15 करोड़ सी-हॉर्स की हत्या किए जाने की बात कही गई है.

सी हॉर्स अंग्रेजी के शब्द का अर्थ भले ही समुद्री घोड़ा हो किन्तु वास्तव में यह कोई समुद्री घोड़ा नहीं एक सुंदर-सी मछली है, जिसका वैज्ञानिक नाम हिप्पोकैम्पस है. यूनानी कवियों ने इस शब्द का प्रयोग एक ऐसे कल्पनात्मक जीव के लिए किया जो घोड़े और मछली का संयुक्त रूप हो और जो समुद्री देवता का वाहन हो.

इस मछली के दांत भी नहीं होते. इसकी दुनियाभर में करीब तीन दर्जन प्रजातियां हैं, जिनकी औसत आयु 1-5 साल होती है. 15 से 35 सेंटीमीटर तक लंबी यह मछली दुनिया भर के सभी समुद्रों में एक से 15 मीटर तक की गहराई में गर्म और छिछले पानी में पाई जाती है.

सी-हॉर्स गिरगिट की तरह अपना रंग बदलने में सक्षम होता है. यह एक समय में आंखों से चारों तरफ देख सकती है. यह जीव दुनिया भर में इसलिए जानी जाती है क्योंकि इसमें नर बच्चे को जन्म देता है. इसमें मादा अपने अंडे नर सी हॉर्स की थैली में डाल देती हैं. उसके बाद 10 दिनों से लेकर 6 माह की अवधि में बच्चे का जन्म होता है. सी-हॉर्स से कई तरह की दवाइयां तैयार की जाती हैं. इसी वजह से दुनियाभर में इसका बड़े पैमाने पर शिकार किया जाता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper