दुनिया की सबसे लंबी सुरंग ‘अटल टनल’ 10 वर्षों में बनकर तैयार

मनाली: मनाली को लेह से जोड़ने वाली दुनिया की सबसे लंबी हाइवे सुरंग ‘अटल सुरंग’ का निर्माण दस वर्षों में पूरा कर लिया गया। आपको बता दें कि इसकी लंबाई 10,000 फीट से अधिक है। इसके पूरा होने का अनुमानित समय छह साल से कम था। मुख्य अभियंता केपी पुरुषोत्तमन ने बताया, “अटल सुरंग, मनाली को लेह से जोड़ता है, यह दुनिया की सबसे लंबी राजमार्ग सुरंग है, जिसकी लंबाई 10,000 फीट से अधिक है। इस सुरंग को पूरा करने की अनुमानित अवधि 6 साल से कम थी, लेकिन इसे 10 साल में पूरा किया गया।”

पुरुषोत्तमन ने कहा, “हर 60 मीटर पर सीसीटीवी कैमरे हैं और सुरंग के अंदर हर 500 मीटर पर आपातकालीन निकास सुरंग हैं। सुरंग मनाली और लेह के बीच की दूरी को 46 किलोमीटर कम कर देगी और चार घंटे बचाए जा सकते हैं।” आग लगने की स्थिति में सुरंग के अंदर फायर हाइड्रेंट भी लगाए गए हैं। उन्होंने कहा, “निर्माण के दौरान संसाधनों को वहां तक ले जाना और उसका उपयोग एक कठिन काम था। हमने बहुत सी चुनौतियों का सामना किया, लेकिन साथ में हम इसके निर्माण को पूरा करने में सक्षम थे। सुरंग की चौड़ाई 10.5 मीटर है, जिसमें दोनों किनारे पर 1 मीटर का फुटपाथ भी शामिल है।”

अटल टनल परियोजना के निदेशक कर्नल परीक्षित मेहरा ने कहा कि टीम के भीतर काम करने वाले कई विशेषज्ञ सुरंग कू रूपरेखा बदलने की राय रखते थे। उन्होंने कहा, “लेह को जोड़ने के लिए हमारा यह सपना था और यह कनेक्टिविटी मजबूत करने की दिशा में पहला कदम था। यह सुरंग एक चुनौतीपूर्ण परियोजना थी, क्योंकि हम केवल दो छोर से काम कर रहे थे। दूसरा छोर रोहतांग पास में उत्तर में था। एक वर्ष में सिर्फ पांच महीने ही काम हो पाता था।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper