दुनिया के पांच अजीबो-गरीब रहस्य, जिसे आज तक नहीं समझ पाये वैज्ञानिक

नई दिल्ली। दुनियाभर के कई ऐसे रहस्य हैं जो आज भी किसी को नहीं समझ आये हैं। इन रहस्यों को जानने की बहुत कोशिश भी की गयी है लेकिन इसका जवाब अभी तक किसी वैज्ञानिक के पास भी नहीं है। कहीं किसी की मौत पर संशय बना हुआ है तो किसी के गायब होने पर। आज हम आपको ऐसे ही कुछ अनसुलझी कहानियों के बारे में बताने जा रहे हैं।

लाखों चिंकारा की मौत

खबर है कि सेंट्रल कजाकिस्तान में मई 2015 में कुछ दिनों के अंदर ही करीब 1 लाख 20 हजार चिंकारा की अचानक मौत हो गयी थी। यह कैसे हुआ और क्यों हुआ इस बात की गुत्थी अभी नहीं सुलझाई जा सकी है। इस घटना के बारे में कुछ वैज्ञानिकों का कहना था कि दो तरह के पैथजन (बीमारी) फैलने की वजह से इतने चिंकारों की मौत हुई थी। फिलहाल अभी तक ये घटना लोगों के लिए रहस्य बनी हुई है।

क्रिपी क्लाउन (खौफनाक जोकर)

अमेरिका के अल्बेनी में कई बार लोगों ने एक खौफनाक जोकर(क्रिपी क्लाउन) को देखा है। हालांकि वो कहां से आता है कहां गायब हो जाता है इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। कुछ लोगों ने यह भी बताया कि क्रिपी क्लाउन को क्लिफटन पार्क में भी कई बार देखा गया है। फिलहाल अभी तक इसके बारे में किसी के पास कोई जानकारी नहीं है। यह एक कल्पना है या हकीकत यह बस एक अनसुलझी कहानी बन कर रह गया है।

जापानी बोट

जापान के नॉर्थ वेस्ट इलाके में साल 2015 में एक ऐसी बोट मिली है जिनमे सड़ी हुई हालत में लाशें पड़ी हुई थी। कहा जाता है कि ऐसे करीब 30 बोट थे जिनकी यही हालत थी। ये बोट कहां से आए इस बात कि किसी को कोई जानकारी नहीं है। इस मामले में कुछ लोगों ने कहा कि यह नॉर्थ कोरिया का बोट था क्योंकि कुछ कपड़ों पर वहां का झण्डा बना हुआ था। हालांकि ये भी अभी तक रहस्य ही है कि इस बोट का राज़ क्या है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper