दुनिया में कब तक रहेगा कोरोना महामारी का प्रकोप, विश्‍व के टॉप एक्सपर्ट का ये है आकलन

नई दिल्ली: दुनिया भर में कोराना महामारी कब तक कहर बरपाती रहेगी, कब तक लोगों को बीमारी के खतरे से यूं घरों में बैठना होगा, कब तक संक्रमण के लिए पल – पल चिंतित रहना होगा । इन सारे सवालों का जो जवाब आया है वो भी परेशान करने वाला ही है । महामारी रोगों पर काम कर चुके एक टॉप एक्सपर्ट ने आकलन किया है कि कोरोना वायरस तब तक अपना कहर जारी रखेगा जब तक यह धरती पर मौजूद दो तिहाई लोगों को संक्रमित ना कर दे ।

ये जानकारी अमेरिका से आई है । अमेरिका के मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी में सेंटर फॉर इंफेक्शस डिजीज रिसर्च एंड पॉलिसी के डायरेक्टर माइकल ओस्टरहोल्म ने यूएसए टुडे से बातचीत में ये बात कही है । आजतक वेबसाइट पर दी गई इस खबर के अनुसार बातचीत में महामारी एक्सपर्ट ने कहा – हम सबको इस बात का सामना करना होगा कि कोई मैजिक बुलेट या वैक्सीन नहीं है जो कोरोना को भगा दे, हमें इसके साथ जीना होगा । लेकिन हम इसके बारे में चर्चा नहीं कर रहे हैं ।

माइकल ओस्टरहोल्म ने कहा कि कोरोना वैक्सीन अभी लगभग एक साल दूर है, जब तक वैक्सीन नहीं बनेगा ये वायरस फैलता रहेगा । तब तक जब तक कि हर्ड इम्यूनिटी न हो जाए । एक्‍सपर्ट का आकलन है कि हर्ड इम्यूनिटी के लिए पूरी आबादी के 60 से 70 फीसदी लोगों के संक्रमित होने की जरूरत है । हर्ड इम्यूनिटी उस हालात को कहा जाता है जब किसी कम्युनिटी में इतने लोग संक्रमित हो चुके होते हैं कि वायरस के संक्रमण का चेन खुद से ही चेन टूटने लगता है ।

महामारी एक्सपर्ट के अनुसार वायरस जितने लोगों को संक्रमित कर सकता है, ये उतने लोगों तक पहुंचेगा और संक्रमण का फैलना जारी रहेगा । संक्रमण की रफ्तार धीमी नहीं होगी । वैज्ञानिक अभी इस बात पर भी काम कर रहे हैं कि पता चल सके कि एक बार संक्रमित होने के बाद कितने वक्त तक लोग दोबारा कोरोना से बीमार नहीं पड़ेंगे । सार्स और मर्स के वायरस से संक्रमित होने के मामलों में लोग इस बीमारी से कई सालों के लिए इम्यून हो जाते हैं ।

महामारी एक्सपर्ट माइकल ओस्टरहोल्म के मुताबिक अगर गर्मियों के दौरान कोरोना के मामले घटने लगेंगे तो ये माना जा सकता है कि यह अन्‍य सीजनल बीमारियों की तरह वापसी करेगा । एक्सपर्ट ने कहा कि अब तक कोरोना ने कई देशों को दर्द, मौत और आर्थिक नुकसान दिया है । एक्‍सपर्ट का कहना है, अभी तो दुनिया की 5 से 20 फीसदी आबादी ही संक्रमित हुई है, संक्रमण 60 से 70 फीसदी लोगों तक पहुंचेगा, हालांकि इसमें अभी लंबा वक्त बाकी है । बीमारी से बचना कैसे है, इसके साथ रहना कैसे है, इस पर काम करना जरूरी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper