दुबई एयरपोर्ट पर भारत आ रही दो फ्लाइट आपस में टकराने से बाल-बाल बची, टला बड़ा हादसा

नई दिल्ली। दुबई एयरपोर्ट पर कल एक बड़ा हादसा टल गया। भारत आ रही दो फ्लाइट आपस में टकराने से बाल-बाल बच गई। भारत के नागरिक उड्डयन महानिदेशालय यानी डीजीसीआई ने संयुक्त अरब अमीरात विमानन प्राधिकरण से इसको लेकर रिपोर्ट मांगी है।

सूत्र बताते हैं कि अमीरात बोइंग 777 बीते रविवार यानी 9 जनवरी को हैदराबाद के लिए दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरने वाली थी। विमान ने टेक-ऑफ रन शुरू कर दिया था। अचानक विमान में सवार पायलट को अपना टेक-ऑफ रद्द करने के लिए कहा। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक और अमीरात बोइंग 777 जो दुबई से बेंगलुरु के लिए उड़ान भरने के लिए निर्धारित थी, रनवे को पार कर गई थी।

जब यह घटना हुई तब दोनों जेटलाइनरों में सैकड़ों यात्री सवार थे। आपको बता दें कि हैदरावाद वाली फ्लाइट को जिस वक्त टेक-ऑफ रन कैंसिंल करने के लिए कहा गया उस समय उसकी रफ्तार करीब 240 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक थी। जेट रनवे की लंबाई से लगभग 790 मीटर नीचे सुरक्षित रूप से रुकने में सक्षम था। इस कारण से एक बड़ा हादसा टल गया।

अमीरात की समय सारणी के अनुसार दोनों उड़ानों के प्रस्थान समय के बीच पांच मिनट का अंतर था। घटना में शामिल दोनों जेट विमानों ने अंततः भारत के लिए उड़ान भरी। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय के सूत्रों के अनुसार, ”दोनों उनके पंजीकृत विमान हैं। इसलिए आईसीएओ (अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन) के अनुसार इसकी जांच उनके द्वारा की जाएगी।” भारत के डीजीसीए ने उन्हें जांच रिपोर्ट साझा करने के लिए कहा है।

संयुक्त अरब अमीरात के विमानन जांच निकाय द एयर एक्सीडेंट इन्वेस्टिगेशन सेक्टर, (AAIS) द्वारा एक जांच शुरू की गई थी। एयरलाइंस को एक गंभीर सुरक्षा चूक की सूचना दी गई थी। अमीरात एयर ने घटना की पुष्टि की है और समाचार एजेंसी एएनआई को सुरक्षा के गंभीर उल्लंघन के बारे में बताया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper