दुबई में नौकरी का झांसा देकर 16 लोगों से ठगी

लखनऊ: दुबई में नौकरी का झांसा देकर जालसाज भाइयों ने 16 बेरोजगारों से 4.80 लाख रुपये ऐंठ लिए। रुपये लेकर टिकट देने से पहले ही खुद को क्राइम ब्रांच का अधिकारी बता तीसरे ने फर्जी वीजा का आरोप लगाते हुए साथी व एक बेरोजगार को गिरफ्तार करने की बात कहकर गाड़ी में बैठा लिया। रास्ते में बेरोजगार को उतारकर फर्जी अधिकारी साथी को लेकर फरार हो गया। पीड़ित ने जालसाज भाइयों के नम्बर पर कॉल की तो वे बंद मिले। ठगी का एहसास होने पर पीड़ितों ने गोमतीनगर थाने में जालसाज भाइयों व अज्ञात फर्जी क्राइम ब्रांच अधिकारी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करायी है।

इंस्पेक्टर डीपी तिवारी का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।बलरामपुर के उतरौला निवासी राम बहादुर के गांव में वैघ की दुकान है। उनका कहना है कि कुछ माह पहले वे वैघ की दुकान पर मौजूद थे। इसी बीच दो युवक वहां दवा लेने पहुंचे। बातचीत के दौरान दोनों ने अपना नाम राहुल व सुनील बताया। कहा कि वे सगे भाई हैं। बातचीत के दौरान उन्होंने एक-दूसरे से नम्बर अदान-प्रदान भी कर लिया। करीब दस माह बीतने के बाद राहुल ने राम बहादुर को फोन किया।हालचाल लेने के बाद कहा कि उसका भाई सुनील दुबई में बेरोजगारों को नौकरी दिलाने का काम करता है। इस पर राम बहादुर ने परिचितों से बात की तो 16 लोग नौकरी के लिए राजी हो गये।

राम बहादुर ने राहुल से फोन पर बात की और कहा कि 16 लोग दुबई में नौकरी के लिए जाना चाहते हैं। इस पर सुनील ने प्रत्येक शख्स की नौकरी के लिए 30 हजार रुपयों की मांग की।राम बहादुर ने 16 लोगों से नौकरी के एवज में रुपयों की बात की तो वे राजी हो गये। हामी भरने पर राहुल व सुनील उतरौला में राम बहादुर के गांव पहुंचे और एडवांस 2.40 लाख रुपये लेकर वीजे की कॉपी मेल पर भेज दी। शेष रकम टिकट देते वक्त देने की बात कही। राम बहादुर का कहना है कि कुछ दिन बीतने के बाद राहुल ने फोन कर टिकट के लिए कैसरबाग आने को कहा। इस पर वे साथी प्रवेश के साथ लखनऊ के कैसरबाग पहुंचे। वहां आने के बाद राहुल को फोन किया तो उसने कहा कि सुनील पासपोर्ट आफिस में है, आप वहीं पर चले जाओ। राम बहादुर का कहना है कि वे पासपोर्ट आफिस पहुंचे। करीब दो घण्टे इंतजार करने के बाद गोमती बैराज पर बुलाया गया।

बैराज पहुंचने पर सुनील वहां मिला। सुनील ने शेष रुपयों की मांग की तो राम बहादुर ने टिकट देने को कहा।सुनील ने झांसे में लिया कि रुपये मिलने के दस मिनट के अंदर टिकट मिल जाएंगे। भरोसे में फंसे राम बहादुर ने शेष 2.40 लाख रुपये दे दिये। इसी बीच वहां गाड़ी से एक युवक पहुंचा। उसने खुद को क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताया और फर्जी वीजे का आरोप लगाते हुए प्रवेश व सुनील को गाड़ी पर बैठा लिया। खुद को पुलिस बताने वाले शख्स ने गाड़ी रोकी और प्रवेश को उतारकर सुनील को लेकर चला गया। उधर, पीड़ित रुपयों की मांग को लेकर राम बहादुर पर दबाव डालने लगे। परेशान राम बहादुर ने गोमतीनगर पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने तहरीर पर सुनील, राहुल व अज्ञात फर्जी क्राइम ब्रांच अधिकारी के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में खयानत व धमकी की रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper