दुबई से 174 यात्रियों को लेकर दूसरा चार्टर्ड विमान अमृतसर पहुंचा

अमृतसर: कोविड-19 लॉकडाउन के कारण दुबई में फंसे भारतीयों को लाने के लिए सरबत दा भला ट्रस्ट की ओर से भेजा गया दूसरा चार्टर्ड विमान 174 यात्रियों को लेकर मंगलवार को अमृतसर के गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचा। उल्लेखनीय है कि यूएई में फंसे हजारों भारतीयों को लाने के लिए सरबत दा भला ट्रस्ट ने चार चार्टर्ड विमान भेजने का फैसला किया था जिसके तहत आज दूसरा विमान 174 यात्रियों को लेकर वापस अमृतसर पहुंचा।

ट्रस्ट के अध्यक्ष डा. एसपी सिंह ओबराॅय ने मंगलवार को बताया कि कोरोना महामारी के कारण अरब देशों में हज़ारों ऐसे भारतीय फंसे हुए हैं जो अपने देश आने के लिए इंतजार कर रहे हैं। उन्होने बताया कि वहाँ फंसे लोग चार अलग -अलग वर्गों से सम्बन्धित ऐसे कामगार हैं जो कोरोना महामारी के दौरान कंपनियाँ बंद होने के कारण सड़काें पर आ चुके हैं। उन्होने बताया कि यह लोग दो वक्त की रोटी के लिए मोहताज हो चुके हैं। ट्रस्ट द्वारा दुबई में अपने स्तर पर मुफ़्त आश्रय और भोजन दिया जा रहा हैं।

ट्रस्ट के अभियान के पहले पड़ाव में चार्टर्ड विमान 177 लोगों को लेकर सात जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात के रास कद्दू खैमा हवाई अड्डे से चण्डीगढ़ एयरपोर्ट पर पहुँचा था। अब दूसरी विशेष उड़ान भी इसी हवाई अड्डे से 174 अन्य फंसे हुए पंजाब और हरियाणा के लोगों को लेकर सोमवार को देर रात अमृतसर के गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुँची है।

डॉ ओबरॉय ने एक और विशेष योजना का ऐलान करते हुए कहा कि खाड़ी देशों से वापिस लौटे इन लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराने के लिए ट्रस्ट द्वारा राज्य के सभी जिलों में कौशल विकास केन्द्र खोले जाएंगे और हर केन्द्र पर 40 से 50 ज़रूरतमंदों को रोजगारोन्मुख प्रशिक्षण मुफ़्त मुहैया करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि ज़रूरत पड़ी तो ट्रस्ट की तरफ से अगले महीने भी अपने ख़र्च पर चार और विशेष उड़ानों का प्रबंध किया जायेगा। ट्रस्ट द्वारा बुक करवाए गए चार्टर्ड विमान की तीसरी उड़ान 19 जुलाई को चण्डीगढ़ जबकि चौथी 25 जुलाई को अमृतसर पहुँचेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper