---- 300x250_1 ----
--- 300x250_2 -----

दुश्मन को अंधा कर देती है ये 3 दिल वाली मछली, जाने क्यों है इसकी सबसे ज्यादा डिमांड

नई दिल्ली: समुद्र की गहराई में रहने वाला एक रहस्यमयी जीव अपने आप में एक छलावा है। समुद्र में इसे देख पाना बेहद मुश्किल होता है क्योंकि यह अपने शरीर के रंग को उसके पीछे मौजूद स्थान के रंग में ढाल लेता है। ये जीव इसलिए भी खास है क्योंकि इसके पास तीन दिल के साथ-साथ हरे और नीले रंग का खून होता है। ये दुश्मन के हमला से पहले ही एक गहरे रंग का धुआं छोड़ता है जो दुश्मन को लगभग अंधा कर देता है। हैरानी की बात तो ये है कि इस जीव की मांग अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत ज्यादा है।

समुद्र के अंदर बिना रीढ़ वाले प्राणियों में यह सबसे बुद्धिमान जीव है। इसका नाम है कटलफिश यानी समुद्रीफेनी। इसके पास भी ऑक्टोपस की तरह 8 भुजाएं होती हैं। इसके अलावा दे लंबे टेंटेकल्स होते हैं। इसका इस्तेमाल ये अपने खाना पकड़ने के लिए करते हैं। इसकी 120 प्रजातियां समुद्र में पाई जाती हैं। इस बुद्धिमान जीव की विशेषता यह है कि इनका शंख बाहर होने के बजाय इनके शरीर के अंदर होता है। ऐरागोनाइट से बना यहा भीतरी शंख खोखला होता है। यह कटलफिश के शरीर को ऐसा ढांचा प्रदान करता है, जिससे यह गहरे समुद्र में आसानी से आ जा सकती है। कटलफिश की आंखें W के आकार की होती हैं। ये आकार में भी काफी बड़ी होती हैं। वैसे तो कटलफिश रंगों में अंतर नहीं कर सकती, लेकिन जीवों के आकार से समझ लेती है कि कौन शिकार है या कौन शिकारी। यह छोटी मछलियां, केकड़े, श्रिंप आदि का शिकार कर अपना भोजन करती हैं।

कटलफिश के शरीर में तीन दिल होते हैं। जो इसके शरीर में हरे और नीले रंग के खून का संचार करते हैं। इसके शरीर में खून का रंग हरे और नीले रंग का इसलिए होता है क्योंकि इसके शरीर में एक खास प्रकार का प्रोटीन होता है जिसमें कॉपर यानी तांबा होता है। इसी प्रोटीन से खून में ऑक्सीजन का बहाव होता है। जिस प्रकार इंसानों के खून में आयरन होता है, जिसे हम हीमोग्लोबिन कहते हैं। जिसकी वजह से इंसानों समेत कई रीढ़ वाले जीवों का खून लाल रंग का होता है, वैसे ही कटलफिश में कॉपर वाला प्रोटीन यानी.. हीमोसायानिन मौजूद होता है। इसलिए खून का रंग हरा-नीला होता है। तीन दिलों में से दो ब्रैंकियल दिल खून को गिल्स में पहुंचाते हैं। तीसरा दिल शरीर के बाकी हिस्सों में हरा-नीला रंग का खून पहुंचाता है।

कटलफिश के शरीर में एक इंक सैक होता है। जहां से यह एक गहरे रंग का धुआं जैसा पदार्थ छोड़ती है। ताकि दुश्मन को धोखा देकर ये मौके से भाग सकें। इसके इंक यानी स्याही में डोपामाइन होता है। जिसकी वजह से दुश्मन थोड़ी देर के लिए अपनी सूंघने और देखने की क्षमता खो देता है। रंग छोड़ने और अलग-अलग वातावरण में अपना रंग बदलने की क्षमता के चलते इसे किंग ऑफ केमोफ्लॉज कहा जाता है। कटलफिश की इंक की बाजार में बहुत ज्यादा मांग है. इसकी इंक का उपयोग सीपिया रंग बनाने में होता है। इसे पकड़ कर इसके शरीर में इंक सैक निकाल उसे सुखा लिया जाता है. फिर एक खास तरह के एसिड के साथ रासायनिक प्रक्रिया कराकर इंक बना लिया जाता है. इससे निकलने वाले 1 लीटर इंक की कीमत 14 हजार रुपए के आसपास होती है। कटलफिश का उपयोग सबसे ज्यादा खाने के लिए होता है

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper