दूल्हें ने शादी में रखी अजीबो-गरीब डिमांड, दहेज में मांगा 21 नाखूनों वाला कछुआ और काला कुत्ता

औरंगाबाद(Aurangabad)। शादी में दहेज (Dowry) देने का रिवाज तो सब जानते है। दुल्हन(Bride) के परिवारवाले दूल्हें(Groom) को दहेज में कपड़े,पैसे, घर गिरसती का सामान और बहुत सारे गिफ्ट देते है लेकिन क्या आपने कभी किसी को दहेज में जानवर मांगते देखा है। जी हां आपको भी सुनकर हैरानी हो रही होगी लेकिन ये सच है। ऐसा ही कुछ चौंकाने वाला मामला महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) से सामने आया है। दरअसल, औरंगाबाद के उस्मानपुरा में रहने वाले एक लड़के की शादी रामनगर इलाके की एक लड़की के साथ तय हुई थी.

अजीबो गरीब दूल्हे की डिमांड

10 फरवरी, 2021 को दोनों की सगाई(Enagagment) भी हो गई थी.वहीं दोनों पक्षों ने कुछ महीनों बाद दोनों की शादी करने का तय किया। लेकिन इस बीच लड़के वालों ने लड़की वालों के सामने दहेज में कुछ अनोखी चीजें देनी की डिमांड रख दी। जिसे सुनकर वो भी हैरान हो गए। लड़के वालों ने कहा कि उन्हें दहेज में 21 नाखूनों वाला एक कछुआ, काला लैब्राडोर कुत्ता और 10 लाख रुपये चाहिए. ये सुनते ही लड़की पक्ष के लोग परेशान हो गए. फिर उन्होंने पुलिस में लड़केवालों के खिलाफ शिकायत करने का फैसला किया.

लड़की के परिजनों ने उस्मानपुरा पुलिस स्टेशन में बुधवार को दूल्हे और उसके परिवार वालों के खिलाफ केस दर्ज करवाया. वहीं लड़की वालों ने बताया कि सगाई के पहले ही वो दूल्हे के परिजनों को 2 लाख रुपये कैश और 10 ग्राम सोना दहेज के रूप में दे चुके हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 406 और 34 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper