देर तक ऑफिस में रुकना हाईबीपी का खतरा

नई दिल्ली: ऑफिस में देर तक रुक कर काम करने की आदत की वजह से हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। अमेरिकन हार्ट असोसिएशन के अध्ययन की मानें तो एक हफ्ते में 49 घंटे यानी 5 डे वर्किंग वीके के हिसाब से हर दिन 10 घंटे से ज्यादा ऑफिस में रुककर काम करने वाले लोगों को हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर का खतरा 66 प्रतिशत अधिक रहता है। इतना ही नहीं, कई मरीजों में तो मास्क्ड हाइपरटेंशन यानी हाई बीपी की ऐसी परिस्थिति जिसमें डॉक्टर के पास रुटीन चेकअप के लिए जाने पर भी ब्लड प्रेशर डिटेक्ट नहीं होता का खतरा अधिक रहता है।

सिर्फ ऑफिस में देर तक रुक कर ओवरटाइम करने वाले कर्मचारियों को ही इसका खतरा नहीं रहता बल्कि वैसे इम्प्लॉयीज जो हर हफ्ते 41 घंटे यानी 40 घंटे हर सप्ताह यानी हर दिन 8 घंटे के टिपिकल वर्कवीक से 1 घंटा ज्यादा भी काम करते हैं उन्हें भी हाई ब्लड प्रेशर होने का जोखिम बढ़ जाता है। इस स्टडी में अनुसंधानकर्ताओं ने कनाडा के क्यूबेक स्थित 3 पब्लिक इंस्टिट्यूशन्स में काम करने वाले 3 हजार 500 वाइट कॉलर इम्प्लॉयीज की गतिविधियों पर 5 साल तक नजर रखी।

इस स्टडी के दौरान सभी प्रतिभागियों को बीपी मॉनिटरिंग डिवाइस पहन कर रखनी पड़ती थी जिसमें उनकी रेग्युलर रीडिंग्स रेकॉर्ड होती थी। स्टडी के लीड ऑथर जेवियर ट्रूडेल की मानें तो मामूली हाइपरटेंशन और मास्क्ड हाइपरटेंशन दोनों ही मरीज को दिल से जुड़ी बीमारी की तरफ धकेल सकता है। इस स्टडी के दौरान प्रतिभागियों की उम्र, जेंडर, एजुकेशन, ऑक्यूपेशन, स्मोकिंग स्टेटस, बीएमआई, जॉब का स्ट्रेस लेवल आदि सभी फैक्टर्स पर भी फोकस किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper