देशभर में गर्मी का कहर, कई शहरों में 45 से 50 डिग्री के करीब पहुंचा पारा, 17 लोगों की मौत

नई दिल्ली: देशभर में गर्मी अपना कहर बरपा रही है। लू के प्रकोप के कारण लोग अपने घरों में बंद है। हरियाणा, जम्मू कश्मीर, दिल्ली, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश में रिकार्ड तोड़ पारा दर्ज किया गया। श्रीगंगानगर में पारा 50 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया।

नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद में तापमान 45 से 46 डिग्री के बीच दर्ज किया गया। मौसम विभाग का अनुमान है कि इस बार पारा पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ सकता है। मौसम विभाग की मानें तो अगले एक हफ्ते तक गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। वहीं राजस्थान के श्रीगंगानगर में पारा 49.6 डिग्री तक पहुंच गया, जो अब तक का सबसे अधिक अधिकतम तापमान रहा है। गर्मी ने 75 साल का रिकॉर्ड तोड़ डाला। इससे पहले श्रीगंगानगर में 30 मई 1944 को अधिकतम तापमान 49.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

राजस्थान के ही चुरु में अधिकतम तापमान 48.5 और बीकानेर में 46.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। हरियाणा के नारनौल में पारा 47 डिग्री तक पहुंच गया। उत्तर पश्चिम भारत में पंजाब-हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में भीषण गर्मी से लोग परेशान हैं। मौसम विभाग ने इन सभी इलाकों में जबरदस्त गर्मी के चलते हीटवेव का रेड अलर्ट जारी कर दिया है

दक्षिण भारत के तेलंगाना के कई हिस्से एक महीने से लू की चपेट में हैं। तेलंगाना में लू और भीषण गर्मी से 22 दिन में 17 लोगों की मौत हो चुकी है। भारतीय मौसम विभाग ने तेलंगाना में अगले तीन दिनों तक तेज लू चलने की चेतावनी और लोगों को धूप में निकलने से बचने की सलाह दी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper