देश के इन हिस्सों में बारिश का कहर जारी, यूपी में यलो अलर्ट!, जानें मौसम का हाल

 


नई दिल्ली. देश के कई हिस्सों में भारी बारिश का कहर जारी है. बारिश से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सहित कई राज्यों में जनजीवन ठप हो गया है. मौसम विभाग ने दोनों राज्यों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है. लगातार बारिश होने की वजह से लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ गई है. मौसम विभाग के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में 21 सितंबर तक बारिश होगी. ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भी भारी बारिश की संभावना है.

जानकारी के मुताबिक, लगातार हो रही भारी बारिश से उत्तर प्रदेश के कई हिस्से जलमग्मन हैं. श्रावस्ती में पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है. इससे यहां राप्ती नदी उफान पर आ गई है. यह नदी न केवल खतरे के निशान को पार कर गई है, बल्कि उससे 50 सेंटीमीटर से ज्यादा ऊपर बह रही है. यहां चारों ओर पानी ही पानी नजर आ रहा है. सड़कें, खेत, गलियां, नाले सब जलमग्न हैं. इसकी वजह से लोग घरों से नहीं निकल पा रहे. खासकर राप्ती के पास बसे गांवों में लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ गई है.

राप्ती के अलावा उत्तर प्रदेश की शारदा और घाघरा नदियां भी उफान पर हैं. जिला प्रशासन ने गिरजा बैराज और बनबसा शारदा से साढ़े चार लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा है, जिसकी वजह से नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. गांव के गांव पानी में डूब गए हैं. गांवों का संपर्क मुख्य सड़कों से कट गया है. लोगों को इलाके पार करने के लिए नाव चलानी पड़ रही है. जानकारी के मुताबिक, कई गांवों के लोग बेहाल हैं, उन्हें रोजमर्रा की चीजों के लिए परेशान होने पड़ा रहा है.

मौसम विभाग के मुताबिक, अब मानसून सिस्टम कमजोर पड़ गया है और मानसून भी हिमालय की तरफ खिसक रही है. इसकी वजह से राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में ज्यादा बारिश नहीं होगी. मध्य प्रदेश में आने वाले दो से तीन दिनों में बारिश हो सकती है. इसके अलावा मध्य महाराष्ट्र के घाटीय इलाकों, विदर्भ और झारखंड में भारी बारिश होने की आशंका है. इसके अलावा मौसम विभाग का कहना है कि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भी दो दिनों के अंदर बारिश हो सकती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper