देश के कई राज्यों में मॉनसून अब एक बार फिर रफ्तार पकड़ेगा, हिमाचल में मौसम विभाग का अलर्ट

नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में मॉनसून अब एक बार फिर रफ्तार पकड़ेगा. भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक उत्तराखंड, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल के कुछ इलाकों में बारिश की संभावना है. मौसम विभाग के अनुसार 18-19 जुलाई से मॉनसून के सक्रिय होने के साथ अगले तीन-चार दिनों में कई राज्यों में अच्छी बारिश की संभावना है.

यूपी के इन इलाकों में बारिश की उम्मीद

मौसम विभाग के अनुसार उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, हस्तिनापुर, बिजनौर, नजीबाबाद, चांदपुर और आस-पास के इलाकों में अगले कुछ घंटों में गरज के साथ बारिश होने की संभावना है. यूपी के ज्यादातर इलाकों में तापमान में बढ़ोतरी होने से उमस भरी गर्मी पड़ रही है, जिससे लोग काफी परेशान हैं और बारिश का इंतजार कर रहे हैं. प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य से 2.8 डिग्री सेल्सियस अधिक 36.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. वहीं, न्यूनतम तापमान भी सामान्य के मुकाबले 2.4 डिग्री अधिक 28.3 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ. हालांकि, आज यानी शनिवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश की संभावना है.

मध्य प्रदेश के मध्य भागों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है. मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्रों, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है. जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तरी बिहार, ओडिशा, दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, तेलंगाना, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है.

हिमाचल प्रदेश में येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी
हिमाचल प्रदेश में अधिकतर स्थानों पर बरसात का दौर जारी है. हिमाचल में आगामी दिनों में अधिक बारिश की संभावना को देखते हुए मौसम विभाग ने येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. हिमाचल प्रदेश के 10 जिलों में 20 व 21 जुलाई को भारी बारिश की चेतावनी देते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के डायरेक्टर मनमोहन सिंह ने बताया कि येलो और ऑरेंज अलर्ट हमीरपुर, बिलासपुर, ऊना, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू, शिमला, सोलन, सिरमौर और चंबा जिलों के लिए जारी किया गया है. उन्होंने कहा कि 22 जुलाई तक राज्य में भारी बारिश का अनुमान है. 20 जुलाई को कुल्लू और मंडी में येलो अलर्ट जारी किया गया है. 21 जुलाई के लिए ऑरेंज अलर्ट के साथ ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, शिमला और सिरमौर में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. 21 जुलाई के लिए कुल्लू, सोलन और मंडी में येलो अलर्ट जारी किया गया है.

असम में बाढ़ से लोग बेहाल
असम में बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं. हालांकि, मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा है कि देश के उत्तरी और उत्तरपूर्वी हिस्सों में मॉनसून की सक्रियता बढ़ने से परेशानी और बढ़ सकती है. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्र सरकार से प्रदेश में बाढ़ की स्थिति पर तुरंत ध्यान देने एवं प्रदेश को अधिक से अधिक सहायता देने की अपील की है.

वहीं, असम के कुछ हिस्सों में बाढ़ के कारण लोगों की मौत एवं संपत्ति के नुकसान पर दलाई लामा ने भी दुख जताया है. मौसम विभाग ने 18 से 20 जुलाई के दौरान देश के उत्तर पश्चिमी हिस्से में भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना जताई है. इसके अलावा पूर्वोत्तर एवं पूर्वी भारत में 18 से 21 जुलाई के बीच तेज बारिश होने की संभावना है.

उत्तराखंड में बारिश से भूस्खलन
मैदानी इलाकों में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है तो वहीं पहाड़ी इलाकों में हो रही लैंडस्लाइड से सबकुछ तहस-नहस हो रहा है. रुद्रप्रयाग में पहाड़ों से गिरे पत्थरों की वजह से केदारनाथ और बद्रीनाथ हाईवे बंद हो गए. चमोली में भी आसमानी आफत कहर बनकर बरस रही है. बारिश की वजह से कई जगहों पर भूस्खलन हुआ है. पहाड़ों के दरकने की वजह से ऋषिकेश-बद्रीनाथ जाने वाला NH-58 बंद हो गया है. बद्रीनाथ और जोशीमठ जाने वाले यात्री लैंडस्लाइड की वजह से खतरे के बीच फंसे हुए हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper