देश में बेटियां सुरक्षित नहीं और पीएम मोदी विदेशी यात्रा में मस्त : तोगड़िया

अहमदाबाद: विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के पूर्व अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगडिया ने आज फिर एक बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर कड़े प्रहार किए| विहिप से निकाले जाने के बाद डॉ. तोगडिया ने गुजरात समेत देश में दुष्कर्म की घटनाओं की कड़ी निंदा की| तोगड़िया ने कहा आज देश में बेटियां सुरक्षित नहीं हैं और पीएम मोदी विदेश यात्राओं में मस्त हैं| देश की सीमा पर सेना के जवान सुरक्षित नहीं है| देश के किसान खेतों में आत्महत्या कर रहे हैं| सरकार को ऐसी व्यवस्था कायम करने चाहिए जिसमें बहन-बेटियों में अत्याचार न हो| सेना के जवान और किसान सुरक्षित रहें|

संसद में कानून बनाने के लिए लाखों लोगों ने अपने खून-पसीने की कमाई दी है| बकौल तोगडिया वे चाहते हैं कि संसद में राम मंदिर और गौहत्या पर कानून बने| आरएसएस नेताओं के साथ मुलाकात के बारे में तोगडिया ने कहा कि आज संघ के दो प्रांत अधिकारियों ने उनसे मिलने आए थे| संघ के विचारों को लेकर ही मैंने संघर्ष शुरू किया था और उसी के कहने पर डॉक्टर की प्रेक्टिस छोड़ दी थी| मेरे विचार और वचन का पालन नहीं होने के कारण मैंने अनशन पर बैठने का फैसला किया है|

विहिप चुनाव में हार के बाद नाराज चल रहे प्रवीण तोगडिया को मनाने का सिलसिला तेज हो गया है| इस संदर्भ में आज आरएसएस के नेताओं ने तोगडिया के साथ बैठक की, जो करीब एक घंटे तक चली| बैठक के बाद संघ के वरिष्ठ नेता हरेश ठक्कर ने कहा कि यह केवल औपचारिक मुलाकात की थी| संघ भी तोगडिया के उपवास करने के फैसले पर सहमत है| दूसरी ओर विहिप से तोगडिया को निकाले जाने के बाद इस्तीफों का दौर शुरू हो गया है| गुजरात समेत देशभर में विहिप पदाधिकारी और कार्यकर्ता इस्तीफा दे रहे हैं| सोमवार को विहिप के केन्द्रीय सचिव महावीर ने भी इस्तीफा दे दिया| महावीर पिछले 40 साल से विहिप के प्रचारक थे और उन्होंने विहिप के सभी पदों से आज इस्तीफा दे दिया है|

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper