देश में 27 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने अपना अभियान पूरा किया, 103 टैंकरों में 1585 टन से अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति की

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे चुनौतियों को दूर करते हुए और नए उपायों की पहचान करते हुए देश भर में विभिन्न राज्यों की तरल चिकित्सा ऑक्सीजन की मांग पर सक्रियता से काम कर रहा है और ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रहा है। रेलवे ने अब तक विभिन्न राज्यों में 103 टैंकरों में लगभग 1585 मीट्रिक टन चिकित्सा उपयोग हेतु ऑक्सीजन की आपूर्ति की है। 27 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने अपनी यात्रा पहले ही पूरी कर ली है जबकि 6 और ऑक्सीजन एक्सप्रेस 33 टैंकरों में 463 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लेकर अपने गंतव्य की ओर बढ़ रही हैं।

भारतीय रेलवे राज्यों की मांग पर यथासंभव मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने को लेकर अपनी पूर्ण प्रतिबद्धता से काम कर रहा है। दिल्ली के लिए हापा और मुंद्रा से 244 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लेकर 2 और ऑक्सीजन एक्सप्रेस निकली हैं, जिनके आज दिल्ली पहुँचने की संभावना है। इन दोनों एक्सप्रेस के दिल्ली में पहुँचने के बाद 24 घंटों की अवधि में 4 मई, 2021 तक दिल्ली को मिलने वाली कुल ऑक्सीजन की मात्रा 450 मीट्रिक टन पहुँच जाएगी।

रेलवे द्वारा आज आपूर्ति की जा रही कुल 382 मीट्रिक टन ऑक्सीजन में 244 टन अकेले दिल्ली में पहुँच रही है जो आज की देशव्यापी आपूर्ति का 64 प्रतिशत है। तेलंगाना को भी दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस प्राप्त हो गई है जिसमें अंगुल से 60.23 मीट्रिक टन की आपूर्ति की गई। बोकारो से निकली ऑक्सीजन एक्सप्रेस लखनऊ में आज 79 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति करेगी।

भारतीय रेलवे ने अब तक देश में कुल 1585 मीट्रिक टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की है, जिसमें 174 मीट्रिक टन महाराष्ट्र को, 492 मीट्रिक टन उत्तर प्रदेश को, 179 मीट्रिक टन मध्य प्रदेश को, 464 मीट्रिक टन दिल्ली को, 150 मीट्रिक टन हरियाणा को और 127 मीट्रिक टन तेलंगाना को की गई आपूर्ति शामिल है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper