देश सुरक्षा नारा देने वाले बेटी सुरक्षा पर खामोश ? शिमला में नाबालिग लड़की से दुकान के भीतर पूरी रात हैवानियत

शिमला : हिमाचल की राजधानी शिमला (Shimla) में एक 14 साल की नाबालिग से दुष्कर्म किया गया है। बेटी का आरोप है कि पूरी रात उसके साथ दरिंदगी की गई. 48 साल के शख्स पर रेप का आरोप है उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

फिलहाल, पुलिस ने पॉक्सो एक्ट (POCSO Act) के तहत मामला दर्ज कर लिया है जानकारी के अनुसार, ठियोग थाना क्षेत्र का यह मामला है। पीड़िता की मां की शिकायत पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 376 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

आरोपी की उम्र करीब 48 वर्ष है आरोप है कि अधेड़ ने अपनी दुकान में मासूम को रात भर रखा और रात भर दुष्कर्म करता रहा इस दौरान मासूम की पिटाई भी क पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.एसपी ओमापति जम्वाल (SP Shimla) ने मामले की पुष्टि की है.

शिकायत में यह बताया

पुलिस को दी शिकायत में पीड़िता की मां ने बताया कि 30 अक्तूबर को दोपहर के समय पीड़िता अपनी सहेली के घर गई थी. सहेली का घर सैंज में हैं 31 अक्तूबर को पीड़िता जब घर नहीं आई तो मां ने उसकी सहेली को फोन किया।

सहेली ने बताया कि वह तो शाम को ही अपने घर चली गई है। बेटी की तलाश में परेशान मां सैंज पहुंची रिश्तेदारों से भी पूछा लेकिन कोई पता नहीं चला इस बीच सैंज बाजार में दुकान चलाने वाले नीरज ने बताया कि वह शाम को मेरे मकान में रुकी थी और सुबह यह बोलकर निकली कि वह ठियोग बाजार जा रही है।

मां ने बेटी की तलाश जारी रखी जब पीड़िता मिली तो उसने बताया कि नीरज नाम का यह व्यक्ति उसे अपनी दुकान में ले गया रात भर दुकान में रखा जबरदस्ती दुष्कर्म किया और मारपीट भी की।

नाबालिग का मेडिकल करवाया

पुलिस की ओर से मिली जानकारी के अनुसार, आरोपी शादीशुदा है बच्चे भी हैं और सैंज में काफी साल से रह रहा है. यहां उसकी अपनी बिल्डिंग है। आरोपी नेपाली मूल का बताया जा रहा है।

पुलिस उसे गिरफ्तार कर आगामी कार्रवाई में जुट गई है। पीड़िता का मेडिकल (Medical Checkup) करवाया जा चुका है। आरोपी को मेडिकल के लिए ले जाया गया है। जानकारी यह भी मिली है कि पीड़िता ने पुलिस को भी आपबीती बताई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper