दोबारा रिलीज हो रही 5 बड़ी फिल्मों में ‘केदारनाथ’ का नाम, भड़के सुशांत के फैन ने कहा- वे अब भी एसएसआर का नाम बेच रहे

मुंबई: करीब 7 महीने तक बंद रहने के बाद 15 अक्टूबर से सिनेमाघर फिर से खुल रहे हैं। री-ओपनिंग के पहले सप्ताह में बड़ी फिल्में रिलीज की जा रही हैं। ये फिल्में हैं अजय देवगन स्टारर ‘तान्हाजी: द अनसंग वॉरियर’, आयुष्मान खुराना स्टारर ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’, अनिल कपूर, आदित्य रॉय कपूर स्टारर ‘मलंग’, सुशांत सिंह राजपूत स्टारर ‘केदारनाथ’ और तापसी पन्नू स्टारर ‘थप्पड़’। ट्रेड एनालिस्ट तरन आदर्श ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी साझा की है।

बॉलीवुड पर लगा सुशांत का नाम बेचने का आरोप

पांच फिल्मों की लिस्ट में ‘केदारनाथ’ का नाम देखकर सोशल मीडिया यूजर्स भड़क गए हैं। उनका आरोप है कि बॉलीवुड वाले अब भी सुशांत के नाम के सहारे पैसा कमाना चाहते हैं। एक यूजर ने लिखा है, “पहले केदारनाथ को खत्म कर दिया गया था और बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई के बावजूद माफिया फिल्मों ‘जीरो’ और ‘सिम्बा’ को स्क्रीन देने के लिए इसे हटा दिया गया था। और अब वे ऑडियंस को फिर से पाने के लिए सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म का सहारा ले रहे हैं।”

एक अन्य यूजर ने लिखा है, “केदारनाथ क्यों? कोई भी सुशांत के नाम पर पैसा कमाने का मौका हाथ से नहीं देना चाहता। मुझे नहीं पता कि आत्मा की अवधारणा वास्तविक है या नहीं। लेकिन अगर यह वास्तविक है तो मुझे उनकी आत्मा पर दया आती है, जिसे अब तक शांति नहीं मिली। हर कोई उनका उपयोग कर रहा है। फिर चाहे फैन हों या फिर कोई और।”

एक यूजर का कमेंट है, “बॉलीवुड का पैसा मत बनाओ। वे अब भी एसएसआर का नाम बेच रहे हैं। बॉलीवुड का बायकॉट करो, जिन्होंने एसएसआर को कहा छोटे शहर के लोग बड़े सपने नहीं देखते।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “वाह सुशांत के नाम का भी इस्तेमाल करोगे अब…क्या उनको फिल्म बिजनेस का प्रॉफिट मिलेगा? नहीं। तो हम क्यों जाएं ट्रैप (जाल) में फंसने के लिए? हम इतने बेवकूफ लगते हैं क्या तुमको। नो मीन्स नो। कम्पलीट बायकॉट।”

एक यूजर का कमेंट है, “जी हां। कोई भी मूवी देखना मतलब एसएसआर के कातिलों का सपोर्ट करना, जो कि हम हरगिज़ नहीं करेंगे।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper