दोषियों की फांसी पर बोले पीएम मोदी, कहा- निर्भया के साथ हुआ न्याय

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्या मामले के चारों दोषियों को फांसी दिए जाने पर शुक्रवार को कहा कि निर्भया के साथ न्याय हुआ है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि निर्भया के साथ न्याय हुआ है। महिलाओं की गरिमा और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि नारी शक्ति ने हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। हमें मिलकर एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना है, जहां महिला सशक्तीकरण पर ध्यान दिया जाए, जहां समानता और अवसर पर जोर हो।

उल्लेखनीय है कि 16 दिसंबर 2012 में राष्ट्रीय राजधानी के वसंत कुंज इलाके में चलती बस में 23 वर्षीय पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ छह लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया और बुरी तरह घायल छात्रा को सड़क किनारे फेंक दिया गया था। इलाज के दौरान छात्रा की सिंगापुर में मौत हो गई थी।

दुष्कर्म के दोषियों में से एक नाबालिग था जिसे तीन साल की सजा के बाद बाल सुधार गृह से 2015 में रिहा कर दिया गया तथा एक आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में खुदकुशी कर ली थी। बाकी बचे चार दोषियों पवन, मुकेश, अक्षय और विनय को को शुक्रवार तड़के तिहाड़ जेल में फांसी पर लटका दिया गया।

चरम पर पहुंचा मप्र में चल रहा सियासी ड्रामा, कमलनाथ ने की इस्तीफे की पेशकश

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper