दो आतंकियों को दस-दस साल की सजा

लखनऊ ब्यूरो। तहरीक ए तालिबान के दो आतकियों को गुरुवार को लखनऊ की विशेष कोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुनायी हैं। इसके साथ ही उन पर 25 हजार रुपये का अर्थदण्ड लगाया है।

यूपी एटीएस ने चार साल पहले 26 माचज़् 2014 को गोरखपुर रेलवे स्टेशन के पास से तहरीक ए तालिबान के दो आतंकवादी कराची पाकिस्तान के रहने वाला अब्दुल वलीद उर्फ मुर्तजा उर्फ अफरोज व फहीम उर्फ ओवैस को गिरफ्तार किया था।

एटीएस की स्पेशल कोर्ट में इन्हें पेश किया गया और मुकदमा चला। साक्ष्यों के आधार पर गुरुवार को लखनऊ की विशेष अदालत ने दोनों आतंकियों को 10-10 साल की सजा सुनायी हैं। इसके अलावा इन पर 25 हजार का अर्थदण्ड लगाया है।

इण्डियन मुजाहिद्दीन के आतंकियों से था सम्पर्क

गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने गहनता से पूछताछ की गयी थी। इसमें यह पता चला कि दोनों आंतकी तहरीक ए तालिबान, अफगानिस्तान के कैम्प में प्रशिक्षित थे। वे इण्डियन मुजाहिद्दीन के आतंकियों के सम्पर्क में थे। यह भारत में आतंकी घटना को अंजाम देने के उददेश्य से नेपाल के रास्ते से भारत में आये थे। इनका उददेश्य यूपी के किसी भी बल पर अन्धा-धुन्ध फायरिंग कर अधिक से अधिक जनहानि करना था।

प्रशंसा चिन्ह से होंगे सम्मानित

इन आतंकियों को गिरफ्तार कर गोरखपुर में बड़ी आतंक की घटना को रोकने के लिए पुलिस महानिदेशक डीजीपी ओपी सिंह ने इस मामले के विवेचक तत्कालीन पुलिस उपाधीक्षक राजेश कुमार श्रीवास्तव व पैरोकार आरक्षी रमाकान्त मिश्रा को प्रशंसा चिन्ह से सम्मानित करने की घोषणा की गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper