दो लेन चौड़ा होने से बचे रह गए राज्य राजमार्गों के चौड़ा हो जाने से प्रदेश के सभी राज्य राजमार्ग हो जाएँगे दो लेन चौड़े

लखनऊ: उत्तर प्रदेश लोक निर्माण मंत्री ज़ितिन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के समस्त राज्य राजमार्गों को न्यूनतम दो लेन चौड़ा किए जाने के लक्ष्य को आगे बढ़ाते हुए दो लेन चौड़ा होने से बचे रह गए राज्य राजमार्गों की 13 परियोजनाओं को 2 लेन चौड़ा किए जाने की कार्ययोजना अनुमोदित कर दी गयी। जिससे अब प्रदेश के सभी राज्य राजमार्ग न्यूनतम दो लेन चौड़े हों जाएँगे।

ज़ितिन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के समस्त राज्य राजमार्गों पर सुगम यातायात हेतु न्यूनतम 2 लेन चौड़ा किए जाने के उद्देश्य से विभिन्न राज्य मार्गों की 13 परियोजनाएं जिनकी लम्बाई 260 कि0मी0 की कार्ययोजना का अनुमोदन मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रदान किया गया है जिसकी लागत रू0 753 करोड़ है। चौड़ा होने से बचे रह गए राज्य राजमार्गों के न्यूनतम दो लेन चौड़ा हो जाने से पूरे प्रदेश में अब कोई भी राज्य राजमार्ग दो लेन से कम चौड़ा नहीं बचेगा। इन 13 परियोजनाओं में जनपद फतेहपुर की 03 परियोजना, शाहजहॉपुर, जालौन की 02-02 परियोजना जबकि गाजीपुर प्रयागराज, वाराणसी, बरेली, मिर्जापुर, प्रतापगढ़ की 01-01 परियोजना शामिल हैं।

ज़ितिन प्रसाद ने कहा कि लोक निर्माण विभाग आम जनमानस को उच्च गुणवत्ता की सड़कें उपलब्ध कराने के लिए कृत संकल्पित है, और इस दिशा में उच्च स्तरीय तकनीक का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इस निर्णय से उ0प्र0 के आम जनमानस को आरामदायक एवं तीव्रगति की आवागमन की सुविधा प्राप्त हो सकेगी। उन्होंने कहा कि मा0 मुख्यमंत्री जी के मंशानुरूप प्रदेश में पूर्व से पश्चिम तक तथा उत्तर से दक्षिण तक प्रदेश के किसी भी हिस्से में आवागमन में कोई असुविधा न होने पाये, इसको दृष्टिगत रखते हुए प्रदेश में उच्चगुणवत्ता की परिवहन के लिए सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper