धनतेरस पर भूलकर भी नहीं खरीदें यह सामान, वरना हो जायेंगे कंगाल

धनतेरस 25 अक्टूबर को है। जमकर खरीदारी करें, लेकिन इस दौरान मामूली बातों का ध्यान रखने से कई समस्याओं से बचा जा सकता है।

– इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम की खरीदारी करते समय प्रोडक्ट के उपयोग के बारे में अच्छे से समझ लें, बिल लेने के साथ गारंटी कार्ड पर विक्रेता की मुहर लगवाना न भूलें।

– ऑटो मोबाइल्स खरीदने से पहले एक्स शोरूम प्राइस और ऑन रोड प्राइस के बीच आ रहे अंतर की राशि की पड़ताल कर लें। यह जरूर देख लें की कहीं रजिस्ट्रेशन या मामूली एसेसरीज के नाम पर आपसे मोटी राशि तो नहीं वसूली जा रही।

– मिठाइयां खरीदते समय जरूर देखें की उन्हें साफ-सफाई से बनाया और रखा गया है कि नहीं। आप डिब्बे का वजन अलग से करने की मांग कर सकते हैं, जिससे आपको मिठाई की पूरी मात्रा मिले।

– आभूषण खरीदते समय हॉलमार्क युक्त आभूषण खरीदना बेहतर विकल्प रहता है। मौजूद रेट के साथ मेकिंग चार्ज का गणित समझकर ही खरीदें।

धनतेरस के दिन इस समय भूलकर भी न करें खरीदारी, होगा अशुभ

धनतेरस पर भूलकर भी नहीं खरीदें यह सामान

धनतेरस पर हर व्यक्ति अपने घर में सुख समृद्धि के लिए कुछ न कुछ जरूर खरीदता है इसलिए धनतेरस पर हर व्यापारी अपनी ओर से ग्राहकों को खींचने की कोशिश करता है। व्यापारी को मालामाल बनाने की बजाय खुद की आर्थिक उन्नति के लिए इस साल धनतेरस पर खरीदारी करते समय इन बातों का ध्यान रखें और इन चीजों की खरीदारी करने से बचें-

शीशे का सामान- राहु से संबंधित वस्तु होने के कारण इनकी खरीदारी से बचना चाहिए। अगर शीशे का सामान खरीदना जरूरी ही है तब इस बात का ध्यान रखें कि वह पारदर्शी हो धुंधला शीशा न खरीदें, कांच की बनी वस्तुएं न लें।

एल्युमिनियम के बर्तन- राहु से संबंधित वस्तु होने के कारण इनकी भी खरीदारी करने से बचें। चाकू, कैंची, छुरी और लोहे के बरतन आदि भी धनतेरस पर न लें।

सोने के आभूषण की बजाय हीरे और चांदी के आभूषण खरीदना अधिक शुभ रहेगा। सोना खरीदना ही है तो बिस्कुट या बॉड खरीदें, लाभ होगा।

दीवाली पर इन जगहों पर जरूर जलाएं दीपक, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

कब की जाती है धनतेरस की पूजा

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक धनतेरस कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन यानी दिवाली से दो दिन पहले मनाया जाता है। धन का मतलब समृद्धि और तेरस का मतलब तेरहवां दिन होता है। धनतेरस यानी अपने धन को तेरह गुणा बनाने और उसमें वृद्धि करने का दिन, कारोबारियों के लिए धनतेरस का खास महत्व होता है क्योंकि धारणा है कि इस दिन लक्ष्मी पूजा से समृद्धि, खुशियां और सफलता मिलती है। साथ ही सभी के लिए इस पूजा का खास महत्व होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper