धनवान बनना है तो इस दिशा में लगाएं दीवार घडी

हममे से सभी के घरो में दीवार पर छोटी या बड़ी घडी ज़रूर लगी होती है दीवार पर हम घडी उस जगह लगाते है जहाँ इसे हम आसानी से देख सकें और समय का ध्यान रख सके लेकिन क्या आप जानते हैं वास्तु में घडी लगाने की भी शुभ और अशुभ दिशा होती है और ये हमारे जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव भी डालती है ऐसा माना जाता है की कभी किसी को घडी तोहफे में नहीं देनी चाहिए घडी की सुईयां हमें समय में बांधती हैं और ये घडी हम किसी को तोहफे में दे रहे है तो हम उसे अच्छे समय के साथ-साथ उसे बुरा समय भी दे रहें हैं यदि यह घडी उसके लिए अच्छा समय लाये तो हमें ख़ुशी मिलेगी |

घडी के संधर्भ में वास्तु शास्त्र और फेंगशुई विज्ञानं बहुत कुछ कहता है जिन घडियो का हम घर या कार्यालय में इस्तेमाल करते हैं उनका हमारे जीवन से एक ख़ास रिश्ता होता है घर में तंगी, टेबल पर रखी घडी किस दिशा में होने चाहिए इसके ख़ास दिशा निर्देश बताएं गए हैं | यदि वास्तु शास्त्र की माने तो दक्षिण दिशा की दीवार पर कभी भी घडी नहीं लगानी चाहिए क्यूंकि वास्तु के आनुसार घर की दक्षिण दिशा यम की दिशा है और यम वह देवता है जो हमारे जीवन को ख़त्म करने का काम करते हैं और इसके साथ दक्षिण की दिशा ठहराव की होती है घर के सभी सदस्यों के वयवसाय पर इसका बुरा असर होता है |

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की दक्षिण दिशा घर के मुख्या के लिए होती है यदि आप दक्षिण दिशा की दीवार पर कुछ लगाना चाहते हैं तो आप घर के मुख्या की तस्वीर लगा सकते हैं ऐसा करना शुभ माना जाता है और इससे घर के मुख्या का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है फेंगशुई के अनुसार भी दक्षिण की दिशा में घडी सुभ नहीं मानी जाती, ऐसी मान्यता है की घर की ये दिशा नकारात्मक उर्जा उत्पन्न करती है यदि हम दक्षिण दिशा में घडी लगायेंगे तो हमारा ध्यान बार-बार दक्षिण दिशा की ओर जायेगा जिसके फलसवरूप हम नकारात्मक उर्जा को ग्रहण करते जाएंगे |

दक्षिण दिशा के आलावा घर के दरवाजे पर भी घडी नहीं लगानी चाहिए ऐसा कहते हैं की घर में आते जाते समय आस-पास की उर्जा प्रभावित हो सकती है आप किस दिशा में घडी लगा रहे हैं इस पर तो ध्यान देना अवश्य है परन्तु आप गलत घडी का तो इस्तेमाल नहीं कर रहें गलत घडी मतलब ख़राब हुई घडी कई बार हमारे घर की दीवार पर लगी घडी काफी दिनों से बंद हुई होती है और हमें इसका अंदाज़ा भी नहीं होता है |

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में बंद पड़ी घडियो से सकारात्मक उर्जा का स्तर गिर जाता है और नकारात्मक उर्जा हमारे जीवन पर हावी हो जाती है इसलिए बंद पड़ी घडियो को तुरन चालू करना चाहिए इसके साथ ही घडी का समय बिलकुल सटीक हो वास्तु शास्त्र के अनुसार समय से पीछे चलने वाली घडियो को भी अच्छा नहीं माना जाता इसलिए घडी के समय को हमेशा सही करके रखना चाहिए सिर्फ दीवार घडी ही नहीं बल्कि घर में सभी घडियो को सही करवाकर उन्हें उपयोग में लाना चाहिए |

वास्तु शास्त्र के अनुसार सिर्फ घड़ियाँ ही नहीं बल्कि घर में और भी ऐसा सामान जो बेकार है किसी काम का नहीं वो भी हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता हैं |

घडी के विषय में एक बात और घडी पर गलती से भी धुल न जमे इन्हें निरन्तर साफ़ करते रहना चाहिए |

घडी को कभी भी तकिये के निचे नहीं रखना चाहिए बहुत से लोग अपने हाथ की घडी को तकिये के निचे रखकर सोते हैं |

अब आप सोच रहे होंगे की घडी को हमें किस दिशा में लगाना चाहिए घडी को हमें उत्तर, पूर्व, पश्चिम दिशा में लगाना चाहिए ये दिशाए हमारे जीवन में सकारात्मक उर्जा लाने का काम करती हैं इसके आलावा आप घडी से लाभ लेना चाहते हैं तो घर में पेंडुलम वाली घडी लगायें ऐसी मान्यता है की दीवार पर लगी पेंडुलम वाली घडी इन्सान के बुरे समय को दूर करने वाली होती है साथ ही घडी का आकर भी हमें ध्यान रखना चाहिए वास्तु शास्त्र के अनुसार गोल, चकोर, अंडाकार, छ: या आठ भुजाओ वाली घडी सकारात्मक प्रभाव को बढाती है तो घडी खरीदते समय आप आकर का जरूर ध्यान रखे |

दक्षिण में लगाई गई घडी परिजनों की आयु और सोभाग्य के लिए अशुभ मानी जाती है घडी का समय बिलकुल सही रखना चाहिए |

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper