धर्मसंसद में भागवत ने दिया बयान, राम जन्मभूमि में बनेगा सिर्फ राम मंदिर ही

उडुपी: पूरे देश में जहां अभी गुजरात चुनाव को लेकर आरोप-प्रत्योराप का दौर जारी हैं तो वहीं दूसरी ओर राम मंदिर को लेकर भी चर्चा का दौर जारी है। इसी चर्चा के बीच शुक्रवार को राम मंदिर मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने बड़ा बयान दिया है। कर्नाटक के उडुपी में चल रही धर्मसंसद के दौरान मोहन भागवत ने कहा कि राम जन्मभूमि पर सिर्फ राम मंदिर ही बनना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट में 5 दिसंबर से अयोध्या मामले पर आखिरी सुनवाई होने जा रही है और उससे पहले भागवत के इस बयान के अलग-अलग मायने निकाले जा रहे हैं।

धर्मसंसद में आरएसएस प्रमुख ने कहा कि राम मंदिर के ऊपर एक भगवा झंडा बहुत जल्द लहराएगा। राम जन्मभूमि स्थल पर कोई दूसरा ढांचा नहीं बनाया जा सकता। भागवत ने कहा कि राम जन्म भूमि पर ही राम मंदिर बनेगा और उसी पत्थर से बनेगा। इसके साथ ही मोहन भागवत ने गौरक्षा की वकालत करते हुए कहा कि हमें गायों की सुरक्षा सक्रिय रूप से करनी होगी। अगर गौहत्या पर बैन नहीं लगेगा, तो हम शांति से नहीं जी सकते है।

इसके पूर्व अयोध्या मुद्दे पर हाल के दिनों में आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर की पहल पर बातचीत हुई थी। इसके अलावा शिया वक्फ बोर्ड ने भी अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद के समाधान के लिए एक प्रस्ताव पेश किया है। शिया वक्फ बोर्ड ने जो प्रस्ताव दिया है, उसके मुताबिक अयोध्या में राम मंदिर बनाया जाए और लखनऊ में मस्जिद बने। बोर्ड ने सुझाव दिया है कि इस मस्जिद का नाम किसी शासक पर रखे जाने की बजाय इसे मस्जिद-ए-अमन नाम दिया जाए। बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अयोध्या विवाद का हल निकालने के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया है।

इसमें कहा गया है कि अयोध्या में विवादित जमीन पर भगवान श्रीराम का मंदिर बनाया जाए ताकि हिंदुओं और मुसलमानों के बीच का विवाद सदा के लिए खत्म हो जाए और देश में अमन कायम हो। बोर्ड ने प्रस्ताव दिया है कि मस्जिद को अयोध्या में न बनाकर लखनऊ में बनाया जाए। बोर्ड ने कहा कि लखनऊ के हुसैनाबाद में घंटा घर के सामने शिया वक्फ बोर्ड की जमीन है, जिस पर मस्जिद बनाई जाए। इसका नाम मस्जिद-ए-अमन रखा जाए। हालांकि इस प्रस्ताव को सुन्नी वक्फ बोर्ड और बाबरी केस के मुद्दई ने खारिज कर दिया था। वहीं बाबरी मस्जिद ऐक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा था कि बाबरी पर शिया बोर्ड का दावा फर्जी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper