धर्म गुरुओं से संवाद बनाकर सभी धार्मिक स्थलों पर गाइडलाइन का अनुपालन करवाएं : मुख्यमंत्री

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि भारत सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन के अनुरूप धार्मिक स्थलों पर सभी तरह की व्यवस्थाएं की जाए। उन्होंने कहा है कि सभी धर्म स्थलों के प्रबंधकों और धर्म गुरुओं से संवाद बनाकर गाइडलाइन का अनुपालन करवाया जाए। सभी धर्म स्थलों में सेनीटाइजर, इंफ्रारेड थर्मामीटर, पल्स आक्सीमीटर की व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि धर्म स्थल के अंदर एक बार में पांच से ज्यादा श्रद्धालु न जाएं, ऐसी व्यवस्था बनाई जाए। प्रतिमा व धार्मिक ग्रंथ को कोई स्पर्श न करे। सभी धर्म स्थलों के बाहर जूता-चप्पल रखने की व्यवस्था की जाए।

उक्त जानकारी शुक्रवार को अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रेस कांफ्रेंस में दी। अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर टीम-11 के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में हर जिले के स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि जनपदों में जो भी नया केस आता है, उसकी कांट्रेक्ट ट्रेसिंग को मजबूती से किया जाए।

अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना ने कहा कि मुख्यमंत्री ने क्वारंटीन सेंटर और कम्युनिटी सेंटर की बेहतर व्यवस्था के निर्देश दिए हैं। कामगारों को दिए जा रहे भरण पोषण भत्ते की भी समीक्षा मुख्यमंत्री ने की है। मुख्यमंत्री ने कोविड अस्पतालों की व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों से बात करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने जागरुकता और सर्तकता के भी निर्देश दिए हैं। जिससे कोरोना पर नियंत्रित किया जा सकता है। निगरानी समितियों और आशा वर्कर को निर्देश दिया है कि वे लोगों से लगातार संवाद कायम रखें।

अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रोजगार और औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ाने व उद्यमियों को कर्ज दिलाने का भी निर्देश दिया है। एमएसएमई सेक्टर में आनलाइन स्वरोजगार संगम के योजनाओं को भी लागू करने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने उद्योग बंधु, पिकप और अन्य संस्थाओं को निर्देश दिया है कि रोजगार बढ़ाने का प्रयास करें।

अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना ने कहा कि रेहड़ी, खोमचे का सर्वे तेजी से हो रहा है। शहरी इलाके में रेहड़ी और खोमचे की संख्या करीब 15 लाख होगी, ऐसा अनुमान है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि सर्वे के आधार पर शहरी क्षेत्रों में रहने वाले स्ट्रीट वेंडर को 10 हजार रुपए का कर्ज देकर लाभान्वित किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों की योजनाओं में श्रमिकों और कामगारों को जोड़ा जाए। इन योजनाओं में डिजीटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है।

प्रेस कांफ्रेंस में उपस्थित प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के 5648 मरीज ठीक हुए हैं। ये सभी अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर चले गए हैं। प्रदेश में 3828 एक्टिव केस हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से अब तक 257 लोगों की मौत हुई है। अभी आईसोलेशन वार्ड में 4765 लोगों का इलाज चल रहा है। प्रदेश में अब तक सबसे ज्यादा एक ही दिन में 12,589 सैंपल की जांच की गई। उन्होंने कहा कि पूलिंग टेस्ट के तहत 5-5 सैंपल के 1036 पूल लिए गए हैं। जबकि 10-10 सैंपल के 167 पूल लगाए गए हैं।

अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि अरोग्य सेतु एप्प का निरंतर उपयोग हो रहा है। इनसे जो अलर्ट जारी हुए, उनमें से 60194 लोगों को फोन कर हालचाल जाना गया है। उन्होंने कहा कि 14872 इलाके में सर्विलांस का काम चल रहा है। इसमें हाट स्पाट और नान हाट स्पाट दोनों इलाके में सर्विलांस किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से प्रदेश की जनता के लिए टोल फ्री नंबर 18001805145 है, इस पर आम पब्लिक फोन कर सरकार के एक्सपर्ट से बातचीत कर सकते हैं।

अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को एक नया टोल फ्री नंबर 18001805146 जारी किया है। ये नया टोल फ्री नंबर आशा वर्करों, आंगनबाड़ी, एएनएम और प्राइवेट दवा की दुकानों के लिए जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि दवा की दुकान पर अगर कोई खांसी या बुखार की दवा लेने आता है तो इसकी जानकारी फार्मासिस्ट्स को टोल फ्री नंबर पर दे। जिससे ऐसे व्यक्तियों को समय से जांच कर उपचार मुहैया करवाया जा सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper