धूप खिलने से खुशगवार हुआ मौसम, मगर फिर लौट सकती है कड़ाके की सर्दी

लखनऊ। राजधानी लखनऊ समेत उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में आज सुबह से ही खिली धूप निकलने से लोगों को पिछले करीब एक पखवाड़े से पड़ रही जबर्दस्त ठंड से खासी राहत मिली। हालांकि ठिठुरन भरी सर्दी जल्द ही वापस भी आ सकती है।

आंचलिक मौसम केन्द्र के निदेशक जे. पी. गुप्ता ने बताया कि सूर्यं के उत्तरायण में आने और खिली धूप निकलने से फिजा में गलन का असर कुछ कम हुआ है लेकिन पश्चिमी विक्षोभ के कारण सर्द हवा का दौर फिर शुरू होगा और दोतीन दिन के बाद कड़ाके की ठंड के फिर लौटने की सम्भावना है।

उन्होंने बताया कि अगले हफ्ते मौसम में उतार-चढ़ाव बना रह सकता है। मकर संक्रांति पर राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में आज सुबह से ही चटख धूप निकली। इससे लोगों को ठिठुरन भरी सर्दी से खासी राहत मिली। रविवार का दिन होने की वजह से बड़ी संख्या में लोग अपनी-अपनी छतों पर धूप सेकते देखे गये। मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों में कुछ स्थानों पर शीतलहर चली।

इस दौरान फैजाबाद, लखनऊ, मुरादाबाद, बरेली तथा वाराणसी मंडलों में दिन के तापमान में खासी वृद्धि हुईं लेकिन गोरखपुर, फैजाबाद और वाराणसी में सामान्य से नीचे ही रहा।इस अवधि में गोरखपुर में अधिकतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस, बस्ती में 12, बलिया में 14 तथा नजीबाबाद में 17.4 डिग्री रहा, जो सामान्य से दो से 10 डिग्री तक कम था।

पिछले 24 घंटों के दौरान वाराणसी तथा फैजाबाद मंडलों में रात के तापमान में खासी गिरावट दर्ज की गयी, जबकि प्रदेश के बाकी मंडलों में यह लगभग सामान्य रहा। इस अवधि में फुरसतगंज (रायबरेली) राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान 3.2 डिग्री सेल्सियस रहा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper