नई करवट लेती आंध्र की राजनीति, वाईएसआर के सभी सांसद देंगे इस्तीफा

दिल्ली ब्यूरो: आंध्र की राजनीति अब नई करवट ले रही है। विशेष राज्य की मांग को लेकर जहां टीडीपी एनडीए से अलग हो चुकी है वही विपक्षी पार्टी वाईएसआर अब विशेष राज्य की मांग को लेकर सरकार से आरपार करने के मूड में है। उसने ना सिर्फ सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव जमा कर चुकी है बल्कि अब सरकार को साफ़ साफ़ बता दिया है कि अगर पांच अप्रैल तक विशेष राज्य की मांग स्वीकार नहीं हुयी तो वाईएसआर के सभी सांसद इस्तीफा दे देंगे। वाइएसआर कांग्रेस प्रमुख जगमोहन रेड्डी ने पार्टी सांसदों के साथ बैठक कर यह निर्णय लिया है।

लोकसभा सदस्य एम राजमोहन रेड्डी ने बताया कि 5 अप्रैल को बिना किसी घोषणा के अगर संसद स्थगित होता है तो अगले ही दिन पार्टी के सभी सांसद अपनी सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे। बीजेपी नेतृत्व वाला एनडीए अगर आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा नहीं करता है तो पार्टी ने निर्णय किया है कि उसके अगले दिन सभी सांसद अपना इस्तीफा लोकसभा अध्यक्ष को सौंप देंगे। वाइएसआर कांग्रेस के नेताओं ने टीडीपी से भी इस्तीफा देने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि इससे केंद्र सरकार पर दबाव बढ़ेगा।

उधर ,सोमवार को पार्टी की हुई बैठक में छह सांसदों में से पांच मीटिंग मे मौजूद रहे। जिसमें दो राज्यसभा सांसद भी शामिल हुए। वहीं पार्टी ने मंगलवार को फिर से संसद सत्र शुरू होने पर अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया है। भाजपा के साथ गठबंधन पर कहा कि राज्य में वाइएसआर कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ेगी, साथ ही उन्होंने कहा कि दूसरे दलों के साथ हाथ मिलाने पार्टी निर्णय करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper