नया खुलासाः ऐसे गए दिल्ली कि भनक भी नहीं लगी

लखनऊ : दिल्ली में मरकज़ जलसे से कोरोना वायरस फैलने के अलर्ट के बाद पुलिस और प्रशासन ने राजधानी की मस्जिदों की पड़ताल की तो चौंकाने वाली जानकारी मिली। कैसरबाग की मरकजी मस्जिद, काकोरी के पलिया स्थित जामा मस्जिद और मड़ियांव के मुतक्कीपुर स्थित मकवा मस्जिद में बांग्लादेश, कजाकिस्तान और किर्गिस्तान से आए कुल 23 पुरुष व महिलाएं रह रही थीं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के कई जिलों से लोग दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। लेकिन बहुत से ऐसे भी थे जो कहीं और के लिए रवाना हुए थे लेकिन दिल्ली पहुंच गए।

इन सभी लोगों की स्क्रीनिंग की गई। इनमें से तीन के सैंपल लिए गए। एक का सैंपल खराब होने पर दोबारा लिया गया। मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम, पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय, जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने तीनों मस्जिदों का निरीक्षण किया। पुलिस आयुक्त व डीएम के अनुसार ये लोग दिल्ली से ट्रेन से आए जरूर थे, लेकिन निजामुद्दीन में हुए जलसे में शामिल नहीं हुए थे। सबसे बड़ी बात यह कि मस्जिदों के मुतवल्ली और केयरटेकर ने इन विदेशी नागरिकों के बारे में स्थानीय पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों को कोई सूचना तक नहीं दी थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper