नसीब वालों की शादी में ही होती है बारिश, जानिए किस बात का देती है संकेत

हमारे देश में जितना महत्त्व शादी के बन्धन को दिया जाता है उतना ही महत्व शादी के आयोजन को भी दिया जाता है। शादी के प्रोग्राम को लेकर घर के सभी लोग और परिवार वाले बहुत उत्साहित रहते हैं और सिर्फ दुल्हा दुल्हन ही नहीं सभी नाते रिश्तेदार इसकी तैयारियों में पूरी मेहनत से लगे रहते हैं। सभी परिवारवालों का यही प्रयास होता है कि किसी तरह से ये शादी में कोई दिक्कत न हो और सारा आयोजन अच्छे से निपट जाए। इन सब तैयारियों के बिच में सभी के मन में कही ना कहीं ये चिंता जरूर बनी रहती है कि शादी के दिन अगर बारिश हो गई तो फिर सब खराब हो जाएगा। शादी के अवसर पे ये बिन बुलाई बरसात सभी बरातियों और घरवालों, सभी के लिये परेशानी का कारण बन जाती है।

वैसे भारत में शादी के दिन अगर बारिश हुई तो उसको लेकर लोगों के मन में कई सारे विश्वास और अंधविश्वास भी जुड़े हुए हैं। कुछ लोगों को ये परेशानी लगती है और भगवान् से यही प्रार्थना करते है कि उनके विवाह के बिच में बारिश नहीं होनी चाहिए और वहीँ कुछ लोग इसे शुभ शगुन मानते है। अगर आपके दिमाग में भी ऐसी ही कोई दुविधा है तो आज आपकी इस दुविधा का हम हल लेकर आएं है। आज इस मामले में आपकी सारी परेशानियां दूर होने वाली है कि वास्तव में शादी के दिन बारिश होना किस बात का संकेत देती है।

वैसे ये तो सब जानते है कि थोड़ी परेशानी तो सबको जरूर होती है जब किसी कि शादी के दिन बारिश, होती है। इससे शादी में कि गयी सभी तैयारियों में परेशानी उत्पन्न हो जाती है और यही कारण है कि दूल्हा-दुल्हन से लेकर सभी घरवाले और बराती सभी को इस बात कि सबसे ज्यादा चिंता रहती हैं, और वो चिंता यही होती है कि अगर शादी के बीच में बारिश हो गई तो शादी कैसे होगी? लेकिन शायद आपको पता नहीं होगा कि शादी में अगर बारिश हुई तो इससे आपको थोड़ी बहुत परेशान तो जरूर होगी लेकिन वास्तव में ये बेहद शुभ शगुन होता है। होता ये है कि बारिश प्रकृति का हमे दिया हुआ विशेष संकेत है।

जिस प्रकार बारिश होना पृथ्वी के लिए अच्छा होता है। वैसे ही ये आयोजन के लिए भी फलदायी है और साथ साथ अच्छे भाग्य का प्रतीक होता है। बारिश होने का मतलब है कि जिस तरह बारिश धरती से सूखे को खत्म कर देती है और बंजर ज़मीन को भी फिर से हरा भरा कर देती है ठीक उसी प्रकार शादी के उत्सव में ये बारिश की बूंद ईश्वर के आर्शीवाद के रूप में बरसती है जो कि शादी की सफलता का प्रतीक है और ये प्रकृति और ईश्वर की तरफ से दूल्हा दुल्हन दोनो को मिला शुभ शगुन होता है।

वास्तव में बारिश को समृद्धि का प्रतीक भी माना गया है। ये भौतिक और शारीरिक दोनों रूपों में सुख और समृद्धि का संकेत देती है। इसी कारण कि वजह से शादी के दिन बरसात होना सुख समृद्धि का प्रतीक माना गया है। इसका मतलब ये है कि ये जिस शादी में बरसात होती है वो ना सिर्फ बहुत सफल रहेगी बल्कि दूल्हा दुल्हन कि शादीशुदा जिंदगी खुशियों से भरी रहेगी। शादी के दिन बारिश का होना एक और संकेत देती है और वो है परिवार के बढ़ने का संकेत। जिस प्रकार बारिश का पानी फसलों के लिए बेहद अच्छा और उपजाउ साबित होता है उसी तरह बारिश भी नए शादी शुदा जोड़े के लिए परिवार बढ़ने का संकेत देती है।

इन सब के आलावा शादी वाले दिन अगर बारिश होती है तो उसको लेकर हिन्दू संस्कृति में एक मान्यता और है और वो ये है कि अगर उस बारिश की एक भी बूँद अगर दूल्हा दुल्हन को बांधने वाली जिसमे बांध कर दोनों सात फेरे लेते है अगर उस ‘कन्यादान की गांठ’ पर पड़ जाती है तो उन दोनों का रिश्ता और मजबूत और दोनों के बीच में प्यार बढ़ जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper