नहीं जानते होंगे घोंघे की यह खूबियां

लंदन। तालाबों व साफ पानी स्रोत में आपने घोंघे तो आपने बहुत देखे होंगे। घोंघे अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं, वो भी खाने के समय। जी हां, वैज्ञानिकों का कहना है कि घोंघे अपने दिमाग का इस्तेमाल अपने खाने की पहचान के लिए करते हैं, पर सिर्फ दो सेल्स का।

घोंघे अपने दिमाग के इलेक्ट्रोड का इस्तेमाल कर साफ पानी में भोजन की खोज करते हैं। इस काम में वो सिर्फ 2 न्यूरोम्स का इस्तेमाल करते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि घोंघे अपने दिमाग के कंट्रोल करने वाले सेल्स का इस्तेमाल कर ये तय करते हैं कि उन्हें वो भोजन लेना है या नहीं। अगर उनके सामने भोजन नहीं होता, तो दिमाग के दोनों ही सेल्स काम करना बंद कर देते हैं, ताकि शरीर की उर्जा को बचाकर रखी जा सके।

ससेक्स विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जॉर्ज केमनस इस शोधकार्य के मुखिया के तौर पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे दिमाग का हिस्सा ही हमें फैसले लेने में मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब हमारे शोधकार्य मे पता लगा है कि घोंघे अपने दिमाग को चलाने के लिए दो सेल्स का इस्तेमाल करते हैं, जिनकी मदद से वो किसी भी नतीजे तक पहुंचते हैं।

प्रोफेसर जॉर्ज ने कहा कि हमारी शोध उन वैज्ञानिकों की बेहद मददगार साबित होगी, तो न्यूरोमल सिस्टम को समझन के लिए इस तरह के शोधकार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस शोध से रोबोट्स में भी दिमाग को विकसित करनें थोड़ी मदद मिलेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper