नहीं हो पा रहा कोरोना के नए रूप का नाम तय , यूके, दक्षिण अफ्रीका या ब्राजील वाला वेरिएंट?

नई दिल्ली: वैसे तो कहा जाता है कि नाम में कुछ नहीं रखा है। लेकिन कोरोना के तेजी से फैल रहे नए प्रकार के नाम को लेकर वैज्ञानिक अभी भी माथापच्ची कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने तो बाकायदा एक बड़ी बैठक भी इस मुद्दे पर कर ली है, लेकिन कोई नाम नहीं सुझा पा रहे हैं। नेचर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार बीती 12 जनवरी को जिनेवा में इस मुद्दे पर डब्ल्यूएचओ की कई घंटे चली बैठक में नए प्रकार का नामकरण नहीं हो सका। नाम को लेकर विशेषज्ञों में सहमति नहीं बन पाई।

बैठक में उपस्थित विशेषज्ञों के दो विचार स्पष्ट थे। एक, जिस देश में यह वायरस मिला है, उसके नाम पर इसकी पहचान रखना ठीक नहीं क्योंकि जिस देश में पहले वायरस मिला है, यह जरूरी नहीं कि वहीं इसका सृजन हुआ हो। दूसरे, नामकरण इसके खतरों के आधार पर होना चाहिए। मसलन यह तेजी से फैलता है, यह नाम में स्पष्ट झलकना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper