नागलोक तक जाता है ये अद्भुत कुआं, जानिए ये है कहां?

आज हम आपको एक अद्भुत कुए से अवगत करने जा रहें है। जिसके बारे में मान्यता है कि यह कुआ इतना गहरा है की इसकी अथाह गहराई नागलोक (Naaglok) तक जाती है। यह कुआ काशी (Kashi) के नवापुरा क्षेत्र में है। यह कुआ कारकोटक नाग तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध है और इस कुएं की गहराई कितनी है इस बात की जानकारी किसी को भी नहीं।

धर्मशास्त्रों के अनुसार इस कुए के दर्शन मात्र से ही नागदंश के भय से मुक्ति मिल जाती है। बताया जाता है करकोटक नाग तीर्थ के नाम से विख्यात इसी पवित्र स्थान पर शेषावतार (नागवंश) के महर्षि पतंजलि ने व्याकरणाचार्य पाणिनी के महाभाष्य की रचना की थी।

इस कुए की सबसे बड़ी महत्ता ये हैं की इसमें स्नान व पूजा (Pooja) मात्र से ही सारे पापों का नाश हो जाता है। कुए में स्नान मात्र से ही नाग दोष से मुक्ति मिल जाती है, ऐसी मान्यता है। पूरे विश्व में काल सर्प दोष की सिर्फ तीन जगह ही पूजा होती हैं उसमे से ये कुंड प्रधान कुंड हैं।

यहाँ मंदिर में वैसे तो नागपंचमी (Nagpanchami) के दिन छोटे गुरू और बड़े गुरू के लिए जो शब्द प्रयोग किया जाता है। उससे तात्पर्य यह है कि हम बड़े व छोटे दोनों ही नागों का सम्मान करते हैं और दोनों की ही विधिविधानपूर्वक पूजन अर्चन करते हैं।

आपको बता दें यह दोनों शब्द हमारी आस्था से गहरे जुड़े हुए हैं क्योंकि महादेव (Mahadev) के श्रृंगार के रूप में उनके गले में जो सजे है वे है बड़े नागदेव हैं, तो वहीं उनके पैरों के समीप छोटे-छोटे नाग भी हैं वे छोटे नागदेव है।

व्याकरण की दृष्टि से अगर देखे तो पतंजलि ऋषि को बड़े गुरू और पाणिनी ऋषि को छोटे गुरू की संज्ञा दी जाती है। यह गुरू शब्द का प्रयोग एकमात्र काशी की ही परंपरा से जुड़ी हुई है। क्योकि इन दोनों ही ऋषियों ने व्याकरण को विस्तारित रूप देने का काम किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper