निजीकरण के विरोध में नैनीताल बैंक युनाइटेड फोरम द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी

बरेली ,11जनवरी । निजीकरण के विरोध में नैनीताल बैंक युनाइटेड फोरम द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी गई है ।आगामी 20 व 21 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल रहेगी । विदित हो कि बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा नैनीताल बैंक में अपनी हिस्सेदारी बेचने हेतु विगत माह 13/12/2022 को निविदाएं आमंत्रित की गयी थीं, जिससे नैनीताल बैंक का प्रबंधन सीधे-सीधे प्राइवेट हाथों में चला जाएगा। बैंक ऑफ बड़ौदा के इस कदम से नैनीताल बैंक के कर्मचारियों एवं ग्राहकों में रोष व्याप्त है।

नैनीताल बैंक यूनाइटेड फ़ोरम द्वारा बैंक ऑफ बड़ौदा के इस कदम के विरोध में आगामी 20-21 जनवरी 2023 को देशव्यापी हड़ताल का आह्वाहन किया गया है। उन्होंने कहा कि जब देश की संसद (लोकसभा) की याचिका समिति नैनीताल बैंक को बैंक ऑफ बड़ौदा में सम्माहित करने हेतु अपनी राय संसद के पटल पर 2018 एवं पुनः 2020में रख चुकी है तो फिर बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा विनिवेश किया जाना गहन जांच का विषय है। उनकी मांग है कि या तो नैनीताल बैंक में बैंक ऑफ बड़ोदा की अंशधारिता यथावत रखी जाय अन्यथा नैनीताल बैंक के बैंक ऑफ़ बड़ोदा में सम्माहित किये जाने की याचिका समिति की सिफारिशों को लागू किया जाये।

इसी क्रम में कल दस जनवरी को क्षेत्रीय श्रम आयुक्त (केंद्रीय) द्वारा देहरादून कार्यालय में नैनीताल बैंक प्रबंधन एवं नैनीताल बैंक यूनाइटेड फ़ोरम के पदाधिकारियों की रेकॉन्सिलिएसन मीटिंग बुलाई गयी थी जो बेनतीजा रही।क्षेत्रीय श्रम आयुक्त ने नैनीताल बैंक के प्रबंधन को यूनियन की मांगों को लेकर कर बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स एवं यूनियन पदाधिकारियों की बैठक सुनिश्चित करने तथा 18/01/2023 तक उन्हें दोपहर 1:00 बजे तक पुनः रिपोर्ट करने को कहा है।

नैनीताल बैंक यूनाइटेड फोरम के पदाधिकारियों ने कहा है कि जब तक उनकी मांगों को नहीं माना जाता, तब तक आंदोलन चलता रहेगा । उन्हीने आह्वान किया है कि अभी सिर्फ 2 दिन की सांकेतिक हड़ताल बुलाई गई है, मांगें न माने जाने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल भी की जा सकती है।

नैनीताल बैंक जिसमें बैंक ऑफ बड़ौदा की 98.57% अंशधारिता है, वर्तमान में अपनी 165 शाखाओं के साथ उत्तर भारतीय क्षेत्र जैसे दिल्ली उत्तर प्रदेश हरियाणा एवं राजस्थान तथा मुख्य रूप से उत्तराखण्ड में फैला हुआ है। नैनीताल बैंक पिछले 50 वर्षों से लाभ अर्जित करने वाला संस्थान है तथा बैंक ऑफ बड़ौदा को औसतन 22% का लाभांश देता रहा है।

नैनीताल बैंक उत्तराखंड के हर जिले में तथा अति दुर्गम क्षेत्रों में भी अपनी सेवाएं अनवरत दे रहा है। नैनीताल बैंक कई क्षेत्रों जैसे अटल पेंशन योजना, प्रधान मंत्री जनधन योजना, आधार पंजीकरण तथा अन्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं को अंतिम लाभार्थी तक पहुचने हेतु हमेशा अग्रणी रहते हुए विभिन्न मंचों में पुरस्कृत भी हुआ है। नैनीताल बैंक को अटल पेंशन योजना में उत्कृष्ठ कार्य हेतु भारत सरकार द्वारा पूर्व में पुरस्कृत किया गया है तथा आधार पंजीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्टता हेतु भी सम्मान प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही नैनीताल बैंक उत्तराखंड सरकार को सर्वाधिक टेक्स देने वाले संस्थानों में अग्रणी है। बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper