नियमों का करें पालन, खुद सुरक्षित रहें दूसरों को भी सुरक्षित रखें

लखनऊ ब्यूरो। सड़क सुरक्षा और यातायात नियमों के प्रति स्कूली बच्चों में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से परिवहन विभाग ने गुरुवार को राजधानी के गोमतीनगर स्थित सिटी मांटेसरी स्कूल में सड़क सुरक्षा चुनौतियां और जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। इस मौके पर स्कूली बच्चों को यातायात नियमों के प्रति परिवहन विभाग के अधिकारियों ने जागरूक किया। कार्यक्रम में रोडवेज और ऑटो, टेंपो के तकरीबन 50 ड्राइवरों को सड़क सुरक्षा और यातायात नियमों का मूलमंत्र दिया गया। इस मौके पर स्कूली बच्चों के लिए प्रतियोगिता भी आयोजित की गई जिसमें करीब 300 अलग-अलग स्कूल के बच्चों ने सहभागिता की।

सही जवाब पर 51000 का पुरस्कार

कानपुर के एलडीए रोड स्थित सिटी मांटेसरी स्कूल के सूर्यांश राज श्रीवास्तव ने परिवहन विभाग की तरफ से पूछे गए 50 वस्तुनिष्ठ प्रश्नों में सबसे ज्यादा सही उत्तर देकर पहले स्थान पर कब्जा जमाया। परिवहन विभाग की तरफ से सूर्यांश राज श्रीवास्तव को 51000 रुपए का चेक प्रदान किया गया। सेकंड नंबर पर संयुक्त रुप से दो छात्रों को विजेता घोषित करना पड़ा। वजह दोनों के नंबर बराबर आए थे। अभिजीत चंद्रा और अर्पिता को दूसरे स्थान के लिए तय धनराशि 21 हजार को आधा कर 10-10 हजार रुपए का चेक प्रदान किया गया। तीसरे स्थान पर रही सीएमएस राजेंद्रनगर की छात्रा सगुन श्रीवास्तव को 11000 रुपये का चेक प्रदान किया गया।

इस मौके पर कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए उप परिवहन आयुक्त लखनऊ परिक्षेत्र अनिल कुमार मिश्रा ने स्कूली बच्चों और रोडवेज ऑटो टेंपो चालकों को सड़क सुरक्षा और यातायात नियमों का पालन करने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा कि दो पहिया वाहन चालक और पीछे बैठे हुए व्यक्ति को हरहाल में हेलमेट लगाना चाहिए, वहीं चार पहिया वाहन चालक के साथ बैठने वाले लोग सीट बेल्ट का इस्तेमाल करें।

आरटीओ प्रवर्तन विदिशा सिंह ने कहा कि बाइक या कार चलाते समय बिल्कुल भी शराब का सेवन न करें। मोबाइल पर बात न करें। ईयरफोन न लगाएं, ऐसा करेंगे तो आप सुरक्षित अपने गंतव्य स्थल तक पहुंचेंगे। इस मौके पर एआरटीओ प्रशासन राघवेंद्र सिंह ने बच्चों को सड़क सुरक्षा नियमों का पाठ पढ़ाया।

सड़क हादसा होने पर क्या करें

इस मौके पर केजीएमयू सर्जरी ट्रामा के हेड डॉ. संदीप तिवारी ने वहां पर मौजूद छात्र-छात्राओं को सड़क सुरक्षा से जुड़ी अहम मेडिकल टिप्स दिये। उन्होंने बताया कि कहीं सडक पर कोई दुर्घटना हो तो सबसे पहले पुलिस के लिये 100 और मेडिकल एम्बुलेसं के लिये 108 नंबर डॉयल करें। इसके बाद मौके पर घायल व्यक्ति को प्राथमिक उपचार देने के क्रम में उसके बायें तरफ हृदय पर ऊपरी दबाव बनाते हुए औसत गति से 120 बार हर्ट पम्पिंग करें और हर 30 पम्पिंग के बाद उसके मुंह में अपनी सांस दें। इस प्रक्रिया से दुर्घटना में घायल व्यक्ति को गंभीर स्थिति में जाने से बचाया जा सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper