निर्भया दोषियों को फांसी देने की तैयारी शुरू, 17 मार्च को तीसरी बार तिहाड़ जेल पहुंचेगा जल्लाद

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। निर्भया मामले में चारों दोषियों को 20 मार्च को फांसी दी जानी है। जेल प्रशासन द्वारा इसकी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इसके लिए पवन जल्लाद 17 मार्च को तिहाड़ जेल पहुंच जाएगा। इससे पहले दोषियों को 3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी दी जानी थी जिसके लिए पवन जल्लाद तिहाड़ जेल पहुंच गया था लेकिन फांसी टलने के कारण उसे वापस अपने घर जाना पड़ा था।

3 मार्च से पहले इन दोषियों को फांसी देने के लिए 1 फरवरी की तारीख तय की गई थी। इसके लिए पवन जल्लाद ने तिहाड़ जेल पहुंचकर सारी तैयारियां भी कर ली थी लेकिन दोषी विनय कुमार ने फांसी पर रोक लगाने की मांग करते हुए तर्क दिया था कि उसकी ओर से राष्ट्रपति के पास दया याचिका लंबित है, इसलिए उसे फांसी नहीं दी जा सकती। पवन की इस याचिका पर पटियाला हाउस ने सुनवाई करते हुए फांसी की सजा पर रोक लगा दी थी।

बता दें कि तय समय पर हुए ट्रायल से पहले जल्लाद ने फांसीघर का निरीक्षण किया था। उसने लीवर की जांच भी की थी। फांसी के लिए फंदा भी जल्लाद ने खुद ही तैयार किया था। फांसी के समय उपस्थित रहने वाले सभी अधिकारी और कर्मचारी इस दौरान फांसीघर में मौजूद रहे थे।

बता दें कि जेल मनुअल के मुताबिक एक फरवरी को तय फांसी की तिथि के दो दिन पहले यानी गुरुवार शाम को ही जल्लाद पवन मेरठ से तिहाड़ जेल पहुंच गया था। उसके रहने की व्यवस्था तिहाड़ के जेल नंबर छह में की गई थी। वहां पर सुरक्षा के इंतजाम भी थे। उसने दोषियों के वजन, लंबाई और गले के नाप से अवगत कराया गया। जिसके बाद इसने फांसी का ट्रायल किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper