नींबू एवं नींबू पानी से दोस्ती करने के फायदे और गुण

नींबू देखे तो एक छोटा सा गोल पीले रंग का फल है जो आसानी से हर जगह उपलब्ध हो जाता है कभी सस्ता तो कभी महंगा । नींबू का कोई पेड़ नहीं होता,ये एक पौधे के रूप में होता है इसमें सगण झाड़ियाँहोती है ,इसकी शाखाएँ काँटेदारछोटी, डंठल पतला तथा पत्तीदार होता है। फूल की कली छोटी और मामूली रंगीन या बिल्कुल सफेद होती है। प्रारूपिक (टिपिकल) नींबू गोल या अंडाकार होता है। छिलका पतला होता हैजो गूदे से भली भाँति चिपका रहता है, पकने पर यह पीले रंग का या हरापन लिए हुए होता है। गूदा पांडुर हरा, अम्लीय तथा सुगंधित होता है। कोष रसयुक्त, सुंदर एवं चमकदार होते है!

 

(वैज्ञानिक दृष्टि सेनींबू के गुण)

ये नींबू का वैज्ञानिक नाम है और नींबू विटामिन सी से भरपूर नींबू स्फूर्तिदायक और ये व्यक्ति को निरोगी बनता है। इसका स्वाद खट्टा होता है। इसके रस में 5% साइट्रिक अम्ल होता है तथा जिसका pH 2 से 3 तक होता है।  विटामिन ए, सेलेनियम और जिंक का भी  मिश्रण  है। नीबू में ए, बी और सी विटामिनों की भरपूर मात्रा है जो इसके गुणों को और भी ज्यादा मजबूत करती है,

इसमें -पोटेशियम, लोहा, सोडियम, मैगनेशियम, तांबा, फास्फोरस और क्लोरीन तत्व तो हैं ही, प्रोटीन, वसा और कार्बोज भी पर्याप्त मात्रा में हैं। विटामिन सी से भरपूर नीबू शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही एंटी आक्सीडेंट का काम भी करता है और कोलेस्ट्राल भी कम करता है। नीबू में मौजूद विटामिन सी और पोटेशियम घुलनशील होते हैं, इन्ही कारण से ननींबू से दोस्ती करना होगा आपके लिए सबसे फायदेमंद!

2.नींबू से दोस्तीकरने से स्वास्थ को मिलने वाले 12फायदे

वजन घटाने में सहायक

सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर पीया जाए तो यह वजन घटाने में मददगार साबित होता है। मोटापा घटाने के लिए नींबू व शहद पानी में नियमित रूप से लेने पर महीने भर में ही आप फर्क महसूस करने लगेंगे।यह आहार शरीर का मैटाबॉलिज्म बढ़ाता है और वजन कम करता है।नींबू विटामिन- सी से भरपूर होता है!

सामान्य बिमारियों के खतरों कोकम करने में सक्षम

दुनियाँ भर में तकरीबन सभी लोग अपनी रोज़मर्रा की बीमारियों से परेशान है, चाहे वो अमीर हो ग़रीबहो, सभी को इनका भारी भरम भुकतान करना पड़ता है.दुनियाँ में सबसे ज़्यादा इनकम जेनरिक मेडिसिन से होती है जिसका 60% विदेशो में जाता है, मगर घबराने  की आवश्यकता नहीं है, आपके पास इन बिमारियों से लड़ने के लिए एक रामबाण है, वो है नींबू,नींबू में विटामिन-सी और कई ऐसे पदार्थ होते हैं जो कि आपके शरीर को रोगों से लड़ने में मदद करता है। इससे सांस संबंधी रोग, सर्दी-जुकाम, खाँसी होने के खतरे भी कम हो जाते हैं। साथ ही इसमें सैपोनि‌न नामक तत्व होता है जो शरीर को फ्लू से बचाने में मदद करता है।

हृदय रोगी के लिए नींबू वरदान

नींबू में अधिक मात्रा में पोटेसियम पाया जाता है जो के ह्रदय के मरीजों के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होता है इससे ह्रदय की गति सामन्य रूप से चलती है इसलिए हर अस्पतालों में मरीज़ो को  नींबू पानी दिया जाता है।

मधुमय के लिए रोधक

मधुमय से आज कौन परिचित नहीं है. आज पूरे विश्व में ये बीमारी स्वास्थ के लिए हानिकारक साबित हो रही है और आज हर चालीस साल की उम्र का व्यक्ति मधुमय से पीड़ित है मगर इस से बचने के लिए लोग नए नए तरीके अपनाते है. आज हाई शुगर वाले जूस व ड्रिंक का बेहतर विकल्प माना जाता है नींबू पानी। खासतौर से उनके लिए जो डायबिटिक हैं या वजन कम करना चाहते हैं। यह शुगर को गंभीर स्तर तक पहुंचाए बिना शरीर को रिहाइड्रेट व एनर्जाइज करता है।

ताज़गी का अहसास

नींबू ताज़गी लाता है और अगर दिन की शुरुआत ही ताजगी भरी हो तो दिन भी ताज़ा ही बीतेगा। ऐसे में रोज़ सुबह नींबू पानी का सेवन आपको तरोताज़ा रखता है। इससे आपका पूरा दिन ताज़गी से भरा रहेगा।

गर्मी में राहत की साँस देता है नींबू

गर्मी और उमस से हमारे शरीर के लवणों की मात्रा का प्रभावित होना कोई नहीं बात नहीं है, जिससे व्यक्ति को खबराहट, कमजोरी आदि तकलीफो से जूझना पड़ता है. परन्तु क्या आप जानते है, नींबू गरमी में राहत दिलाता है। शरीर में गरमी और उमस के चलते कम हुए लवणों की मात्रा को भी नियंत्रित करता है।

लिवर सम्बंधित खतरों से बचाव

नींबू आपके लिवर का ख्याल रखने में सक्षम है क्योंकी इसमें साइट्रिक एसिड होता है जो एंजाइम्स को सही तरह से काम करने में सहायक होता है, जिससे आपका लिवर स्वस्थ रहता है.इसलिए नींबू का भरपूर उपयोग करें।

पेट के हाजमा को संतुलित रखता है

पेट की बिमारियों से बचने के लिए नींबू बहुत ही लाभदायक है. ये आपके हाजमे को सतुलित रखता है और साथ ही आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाता है.नींबू पानी में फ्लेवनॉयड्स होते हैं जो पाचन तंत्र को ठीक रखते हैं। यही वजह है कि पेट खराब होने पर नींबू पानी पिलाया जाता है। रोज सुबह नींबू पानी पीने से आपकी हजम करने की शक्ति बढ़ती है। साथ ही ये एसिडिटी से राहत दिलाने में भी सहायता करता है।

खून को गन्दा करने वाले तत्वों को ख़त्म करता है।

ये एक माउथ फ्रेशनर का काम करता है

मुँह से बदबू आने की समस्या को आप निंबू की मदद से दूर कर सकते है. बता दें कि नींबू मुंह में मौजूद बैक्टिरिया को खत्म करता है,जिससे आपके मुंह से बदबू नहीं आती है । रोज सुबह सुबह नींबू पानी पीने से सांस में से बदबू आने की समस्या खत्म हो जाती है।

 

थकावट को कम करता है छोटा सा नींबू

इसमें बिटामिन सी पाया जाता है,वो आपके मस्तिस्क की शक्ति को बढ़ाता है और बिटामिन डी आपके शरीर को एनर्जी देता है जो आपको थकने नहीं देने में सहायता करता है. इसके रोज सेवन करने से आपका शरीर तंदुरुस्त बना रहता है।

 

नींबू आपकी खूबसूरती को बढ़ाता है

नींबू को बालो में लगाने से बालो में मजबूती आती है और बाल लम्बे घने काले होते है। इसे दही के साथ अच्छी तरह मिश्रण करने के बाद चेहरे पर लगाने से आपका चेहरा कील मुंहासों से मुक्त हो जाता है. इसका इस्तेमाल रोज न करें, ये हफ्ते में दो दिन करें तो ये नुस्खा आपके लिए बहुत कारगर साबित होगा !

 

खून में जहीरले प्रदार्थो को नष्ट करता है

नींबू में पाए जाना वाला साइट्रिक और एस्कोर्बिक एसिड खून के कई प्रकार के एसिड को दूर करता है । इसके लागातार सेवन से खून से एसिड दूर रहता है और खून साफ रहता है।

 

नींबू की उत्पत्ति कहाँ हुई इसके बारे में कोई ठोस प्रमाण नहीं है परन्तु आमतौर पर लोग यही मानते हैं कि यह पौधा मूल रूप से भारत, उत्तरी म्यांमार एवं चीन का निवासी है। खाने में नींबू का प्रयोग कब से हो रहा है इसके निश्चित प्रमाण तो नहीं है, लेकिन यूरोप और अरब देशों में लिखे गए दसवीं सदी के साहित्य में इसका उल्लेख मिलता है। मुगल काल में नीबू को शाही फल माना जाता था, कहा जाता है कि भारत में पहली बार असम में नींबू की पैदावार हुई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper