नेशनल पीजी कॉलेज के प्रिंसिपल पर छात्राओं ने लगाया छेड़छाड़ का आरोप

लखनऊ: कबीरदास जी ने गुरु का दर्जा भगवान से भी ऊपर दिया है लेकिन आज कुछ कलयुगी गुरु अपनी मर्यादा को लांघते हुए इस पवित्र रिश्ते को शर्मसार करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं. ताजा मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के प्रतिष्ठित नेशनल पीजी कॉलेज का है जहां स्कूल की छात्राओं ने प्रधानचार्य पर छेड़छाड़ व अभद्रता का आरोप लगाया है.

आरोप है कि प्रिंसिपल स्कूल की ही एक कर्मचारी की बेटी के साथ छेड़छाड़ करता था. इतना ही नहीं छात्रा से मिलने के लिए वह उसके घर तक पहुंच गया. छात्रा की मां ने जब इस्सका विरोध किया तो उसने फेल की धमकी देते हुए मानसिक शोषण करने लगा. आरोप है कि सोमवार को प्रिंसिपल ने छुट्टी के बाद भी छात्राओं को स्कूल में आधे घंटे रोके रखा. इस दौरान उसने छात्राओं के साथ छेड़छाड़ भी की. लड़कियों ने जब उसका विरोध किया तो मारने-पीटने के साथ-साथ परीक्षा में फेल करने की भी धमकी दी.

मंगलवार को छात्राओं के साथ कॉलेज में नाराज छात्राओं और उनके अभिभावकों ने किया हंगामा. इसकी सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी को समझाकर कार्रवाई का आश्वासन दिया. घंटो बाद छात्राओं का प्रदर्शन समाप्त हो पाया। आक्रोशित छात्राएं प्रिंसिपल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रही थीं.

छात्राओं ने आरोप लगाते हुए बताया कि उनके साथ अश्लीलता का ये कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले आरोपी प्रिंसिपल कई छात्राओं और स्कूल में पढ़ाने वाली महिला अध्यापिकाओं से भी अश्लीलता कर चुका है. लेकिन छात्राओं ने भविष्य खराब होने और टीचरों ने नौकरी के लिए जुबान नहीं खोली. लेकिन जब बर्दास्त से बाहर हो गया तो छात्राओं ने प्रिंसिपल की हरकतें सार्वजानिक कर दी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper