नैनीताल बैंक यूनाइटेड फोरम के बैनर तले बैंक के निजिकरण के खिलाफ सुर तेज,फोरम की मांग राज्य एवं केंद्र सरकार मानवीय पहलू के दृष्टिगत ले फैसला

बरेली , 09 जनवरी । निजीकरण के खिलाफ़ नैनीताल बैंक में एक बड़े आन्दोलन की शुरूआत हो चुकी है ।कल हल्द्वानी के एक निजी बैंकेट हाल में नैनीताल बैंक यूनाइटेड फ़ोरम के बैनर तले नैनीताल बैंक को बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा निजी हाथों में देने हेतु निकाली गई निविदा निरस्त करवाने तथा लोकसभा की याचिका समिति की सिफारिश के क्रियान्वयन की मांग हेतु 5 राज्यों से पहुचे 1100 कर्मचारियों तथा आम जनता ने शि शिरकत की।

कार्यक्रम के मुख्यअतिथि केन्द्रीय पर्यटन एवं रक्षा राज्य मंत्री श्री अजय भटट जी ने अधिवेशन को सम्बोधित करते हुये कहा कि नैनीताल बैंक उत्तराखंड का स्वाभिमान रहा है। पिछले 100 वर्षों से लगातार नैनीताल बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की गाइडलाइंस के अंतर्गत लाखों ग्राहकों को अपनी सेवाएं दे रहा है। नैनीताल बैंक उत्तराखंड में हर जिले तथा अति दुर्गम क्षेत्रों में विषम परिस्थितियों में भी अपनी सेवाएं निर्वरत दे रहा है। माननीय मंत्री जी ने आस्वस्त किया कि वह अतिशीघ्र केन्द्रिय वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी से भेंट कर नैनीताल बैंक को निजी हाथों में न देकर बैंक का विलय उसके मातृसंस्थान बैंक ऑफ बड़ौदा में ही हो इसको लेकर निवेदन करेंगे।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में पहुचे श्री धुव रौतेला ने कहा कि युवा एवं लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी मामले की गंभीरता को लेकर चिंतित हैं। पूर्व में बैंक के प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात के बाद उत्तराखंड सरकार न केंद्र सरकार से पत्राचार कर पहल की है। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी बैंक का विलय बैंक ऑफ बड़ौदा में शीघ्रातिशीघ्र सुनिश्चित हो एवं इसका निजिकरण न हो, इसको लेकर केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण जी एवं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से वार्ता करेंगे।

कार्यक्रम में उपस्थित नैनीताल की विधायक श्रीमती सरिता आर्य जी ने समस्त कर्मचारियों को आस्वस्त किया कि वह स्वयं नैनीताल बैंक के बैंक ऑफ बड़ोदा में विलय होने को लेकर जो भी आंदोलन होगा, कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी रहेंगी साथ ही फोरम के अध्यक्ष चंद्रशेखर कन्याल, प्रवीण साह एवं महासचिव पीयूष पयाल द्वारा मुख्यमंत्री को प्रेषित ज्ञापन लेकर वो देहरादून रवाना हो गई हैं। कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष श्री प्रताप बिष्ट भी मौजूद रहे।

नैनीताल बैंक जिसमें बैंक ऑफ बड़ौदा की 98.57% अंशधारिता है, वर्तमान में अपनी 165 शाखाओं के साथ उत्तर भारतीय क्षेत्र जैसे दिल्ली उत्तर प्रदेश हरियाणा एवं राजस्थान तथा मुख्य रूप से उत्तराखण्ड में फैला हुआ है। नैनीताल बैंक पिछले 50 वर्षों से लाभ अर्जित करने वाला संस्थान है तथा बैंक ऑफ बड़ौदा को औसतन 22% का लाभांश देता रहा है।

नैनीताल बैंक उत्तराखंड के हर जिले में तथा अति दुर्गम क्षेत्रों में भी अपनी सेवाएं अनवरत दे रहा है। नैनीताल बैंक कई क्षेत्रों जैसे अटल पेंशन योजना, प्रधान मंत्री जनधन योजना, आधार पंजीकरण तथा अन्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं को अंतिम लाभार्थी तक पहुचने हेतु हमेशा अग्रणी रहते हुए विभिन्न मंचों में पुरस्कृत भी हुआ है। नैनीताल बैंक को अटल पेंशन योजना में उत्कृष्ठ कार्य हेतु भारत सरकार द्वारा पूर्व में पुरस्कृत किया गया है तथा आधार पंजीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्टता हेतु भी सम्मान प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही नैनीताल बैंक उत्तराखंड सरकार को सर्वाधिक टेक्स देने वाले संस्थानों में अग्रणी है।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper