नौकरी का झांसा देकर 10.90 लाख ठगे

लखनऊ: कृषि रक्षा अधिकारी विभाग सीतापुर में लिपिक के पद पर नौकरी दिलाने का झांसा देकर जालसाजों ने दो महिला समेत पांच लोगों से 10.90 लाख रुपये ऐंठ लिए। जालसाज ने पीड़ितों का शैक्षिक प्रमाण पत्र लेने के साथ ही मेडिकल, चरित्र प्रमाण पत्र तक बनवाया और फिर टालमटोल शुरू कर दी। नौकरी न मिलने पर पीड़ितों ने रुपये वापस करने की मांग की तो आरोपितों ने धमकाया। आरोप है कि फर्जीवाड़े में आरोपित पिता-पुत्र के साथ ही एक मां-बेटा भी शामिल हैं। तालकटोरा पुलिस ने चार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

इंस्पेक्टर धनंजय सिंह ने बताया कि पारा के काशीराम योजना पुरानी कालोनी हंसखेड़ा में ऊषा पाण्डेय परिवार के साथ रहती हैं। ऊषा ने बताया कि वर्ष 2018 में प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने विकास भवन सीतापुर में कृषि रक्षा अधिकारी विभाग में लिपिक के पद पर नौकरी दिलाने का झांसा दिया। जालसाज ने अपनी ऊंची पहुंच का हवाला देकर फंसाया। ऊषा का कहना है कि प्रदीप ने उसे, कुलदीप प्रजापति, सुदामा कुशवाहा, आरपी यादव व बबिता मिश्रा को भी नौकरी का आश्वासन दिया। आरोपित ने कहा कि कुछ रुपये खर्च होंगे लेकिन नौकरी मिल जाएगा।

जाल में फंसाने के बाद आरोपित ने कुलदीप प्रजापति से 1.20 लाख, उषा पाण्डेय से 2.70 लाख, सुदामा कुशवाहा से 2.50 लाख, आरपी यादव से 2 लाख व बबिता मिश्रा से 2.50 लाख रुपये व शैक्षिक प्रमाण पत्र ले लिये। आरोपितों ने सभी के नाम का एक प्रार्थना पत्र विभाग में दिलवाया।साथ ही सभी का मेडिकल करवाने के साथ ही सीतापुर रोजगार कार्यालय में नाम भी दर्ज कराया। नौकरी में चरित्र प्रमाण पत्र लगने की बात कहते हुए आरोपित ने सभी का सत्यापन कराया। कई माह तक यह होने के बाद भी जब पांचों पीड़ितों में किसी को भी नौकरी नहीं मिली तो उन लोगों ने सम्पर्क किया। इस पर प्रदीप जल्द नौकरी की बात कहकर टालमटोल करता रहा।पीड़ित जब भी राजाजीपुरम सी-ब्लॉक स्थित रीना सिंह के मकान पर जाते तो प्रदीप जल्द ही नियुक्ति पत्र मिलने की बात कहकर टरका देता।

नौकरी न मिलने पर पीड़ितों ने हाल ही में आरोपित से अपने 10.90 लाख रुपये वापस मांगे तो धमकाया गया। पीड़ितों का आरोप है कि फर्जीवाड़े में प्रदीप कुमार श्रीवास्तव के साथ उसका बेटा प्रवीण, रीना सिंह व उनका बेटा अभिषेक सिंह भदौरिया भी शामिल है।ठगी का एहसास होने पर पांचों पीड़ित मामले की शिकायत लेकर तालकटोरा थाने पहुंचे। इंस्पेक्टर का कहना है कि तहरीर के आधार पर प्रदीप कुमार श्रीवास्तव, प्रवीण, रीना सिंह व अभिषेक सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी व अमानत में खयानत की रिपोर्ट दर्ज कर ली गयी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper