नौजवानों को रोजगार देने में फिसड्डी साबित हुई भाजपा सरकार: कांग्रेस

लखनऊ ब्यूरो। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि प्रदेश में शहरी और ग्रामीण बेरोजगारी की दर में बढ़ोत्तरी हुई है और भाजपा सरकार नौजवानों को रोजगार मुहैया कराने में फिसड्डी साबित हुई है।

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने शुक्रवार को कहा कि भाजपा ने अपने लोक संकल्प पत्र में 70 लाख लोगों को रोजगार देने की बात कही थी और उसकी तुलना अभी दो साल में मात्र दो दशमलव एक दो प्रतिशत नवजवानों को ही रोजगार मिला है।

लल्लू ने कहा कि भाजपा ने प्रदेश के नौजवानों के साथ छलावा किया है। सरकार ने अनुदेशकों के मानदेय को बढ़ाकर 17 हजार रुपये प्रतिमाह का वादा किया था और अभी तक उनको नहीं दिया गया। इसी तरह से सरकार ने उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद अभी तक 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती नहीं की।

उन्होंने शिक्षकों की भर्ती को रोकने की आलोचना करते हुए जल्द भर्ती की मांग की। सर्वोच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद 72825 शिक्षकों की भर्ती में धांधली का आरोप लगाते हुए कहा कि इस प्रक्रिया में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति की 3487 उत्तीर्ण महिला अभ्यर्थी दर-दर की ठोकर खा रही हैं किंतु सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही है।

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कहा कि देश में ग्रामीण क्षेत्र तथा शहरी क्षेत्र में क्रमशः 3.4 तथा 4.4 फीसदी बेरोजगारी दर है जबकि उत्तर प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्र की बेरोजगारी दर 5.8 और शहरी क्षेत्र की बेरोजगारी दर 6.5 है, जो बहुत ही चिंताजनक है।

कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने कहा कि नोटबंदी से बंद और ठप पड़े लघु व कुटीर उद्योगों के कारण भी प्रदेश में बेरोजगारी में इजाफा हुआ है और गैर संगठित क्षेत्र में बड़ी मात्रा में रोजगार के अवसर कम हुए। इसलिए सरकार को प्रदेश में नोटबंदी से हुए रोजगार क्षेत्र में नुकसान का आकलन करना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper