न्यायाधीश यूके धवन के बराबर मुआवजा पर अड़े किसान

लखनऊ ब्यूरो। लखनऊ विकास प्राधिकरण के सामने भारतीय किसान यूनियन (अवध) से जुड़े किसानों ने बुधवार को जमकर प्रदर्शन किया। किसानों ने अधिकारियों से न्यायाधीश यूके धवन के 14 रुपये के रेट के बराबर मुआवजे की मांग की है।

प्रदर्शन के दौरान भारतीय किसान यूनियन (अवध) के अध्यक्ष राम सिंह ने कहा कि प्राधिकरण ने कानुपर रोड योजना में जमीन अधिग्रहण पर न्यायाधीश यूके धवन को 14 रुपये के रेट दिया गया। बाकि किसानों को तीन रुपये से ज्यादा नहीं दिया गया। पिछली सरकार में एलडीए के तत्कालीन सचिव अरूण कुमार से सभी किसानों ने साढ़े दस रुपये की मांग की थी और उसे मान लिया था।

इसके बाद अरूण कुमार के स्थानान्तरण होने के साथ ही किसानों की पूरी होने वाली मांगे वहीं अटक गयी, आज तक किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा नहीं मिला। प्राधिकरण के अधिकारी लगातार टालते रहे और कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया।

किसान नेता डॉ.धनेश ने बताया कि मार्च महीने से किसानों ने एकजुटता बनाकर अधिकरियों से वार्ता करनी चालू की। मार्च से जुलाई आ गयी अधिकारियों की वाणी किसानों के अधिकार देने को तैयार नहीं हैं। इसके लिए आंदोलन किया जा रहा है, पांच बार धरना-प्रदर्शन हुआ।

उन्होंने बताया कि किसान अपने मुआवजे की मांग को लेकर वर्तमान सरकार में आधा दर्जन नेताओं से मिल चुके हैं। नेताओं ने किसानों को केवल आश्वासन दिया है। प्राधिकरण के प्रमुख अधिकारी उपाध्यक्ष प्रभु नारायण सिंह, पूवज़् सचिव जयशंकर दुबे, वर्तमान सचिव मंगला प्रसाद, नजूल अधिकारी विश्व भूषण मिश्रा से लगातार वार्ता हो रही है। किसानों को अभी तक कुछ मिल नहीं सका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper