पंचायत चुनाव के लिए पार्टी को मजबूत में जुटीं मायावती

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती इन दिनों संगठन को चुस्त और दुरुस्त करने में जुटी हुई हैं। इसकी खास वजह यूपी में होने वाले पंचायत चुनाव के साथ वर्ष 2022 का विधानसभा चुनाव है। यह हमेशा से माना जाता रहा है कि बसपा के पास एक मजबूत कॉडर है। मायावती अब इसी कॉडर को और मजबूत करने के लिए राजनीति की प्रयोगशाला में नया प्रयोग करने में जुटी हुई हैं। शायद यही वजह है कि बसपा के मुख्य संगठन में अभी तक दबदबा रखने वाले एससी, एसटी बिरादरी के साथ ब्राह्मणों और मुसलमानों को जोड़कर वोट बैंक के नए आधार की परख की जा रही है।

संगठन में ब्राह्मणों को अहम जिम्मेदारियां
मायावती के निर्देश पर पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र इन दिनों ब्राह्मण समाज को साथ लाने में जुट गए हैं। उन्होंने पिछले दिनों लखनऊ में एक महत्वपूर्ण बैठक की। इसमें बसपा सरकार में रहे ब्राह्मण समाज के पूर्व मंत्रियों को खासकर आमंत्रित किया गया। पूर्व मंत्री रंगनाथ मिश्र, नकुल दुबे, ओपी त्रिपाठी के साथ पार्टी के अन्य पुराने ब्राह्मण नेताओं को बुलाया गया। इसमें पार्टी से ब्राह्मण समाज को जोड़ने के लिए कार्यक्रम चलाने पर विचार-विमर्श किया गया। पार्टी के मुख्य संगठन में ब्राह्मण समाज के युवाओं को जोड़ा जाए। इसके साथ ही जिला से लेकर विधानसभा कमेटियों में इनको स्थान दिलाया जाए, जिससे ब्राह्मण समाज के लोगों अधिक से अधिक जुड़ सकें। कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन या वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठकें कर सांगठनिक ढांचे को मजबूत किया जाए।

कमेटियों के सहारे जनाधार पर जोर
मायावती के निर्देश पर इन दिनों जिला, महानगर और विधानसभा कमेटियों का गठन नए सिरे से किया जा रहा है। जिला कमेटियों में 18 से 20 लोगों को शामिल किया जा रहा है, तो महानगर कमेटी में आठ से 10 लोगों को रखा जा रहा है। प्रत्येक विधानसभा कमेटी में पांच-पांच लोगों को शामिल किया जा रहा है। इसके आधार पार्टी का जनाधार नए सिरे से खड़ा किया जा रहा है। बसपा इसी जनाधार के सहारे पंचायत चुनाव में उतरने की तैयारी कर रही है, जिससे इसकी सफलता-असफलता को विधानसभा चुनाव से पहले ठीक किया जा सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper