पंजाब के 22 किसान संगठनों ने बनाया संयुक्त समाज मोर्चा, राज्य की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान

चंडीगढ़: पंजाब के किसान संगठनों ने किसान आंदोलन फतेह करने के बाद अब चुनाव मैदान में उतरने का मन बनाते हुये आज अपनी नई पार्टी संयुक्त समाज मोर्चा का ऐलान किया। 22 किसान संगठनों आज यहां एक बैठक कर चुनाव मैदान में उतरने पर मंथन किया और शाम को पत्रकार सम्मेलन में अपनी नई सियासी पार्टी संयुक्त समाज मोर्चा का ऐलान करते हुये भारतीय किसान यूनियन के नेता बलबीर राजेवाल को पार्टी का चेहरा घोषित करते हुये सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया।

किसान नेता कादिया ने कहा कि मोर्चा में अगले कुछ दिनों में और संगठनों के जुड़ने की संभावना है। किसानों ने पंजाब से निकलकर एक साल तक अपने हकों के लिये लंबी लड़ाई लड़ी और जीत हासिल की। आंदोलन समाप्त होने के बाद पंजाब लौटने पर लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया और लोग चाहते हैं कि अब वे चुनाव मैदान में हाथ आजमायें।

किसान नेता ने कहा कि राजनीतिक दलों ने हमें लूटा और हमारी मांगें पूरी तक नहीं कीं। अब समय आ गया है जब किसान अपनी लड़ाई खुद लड़ने के लिये चुनाव मैदान में उतरें और अपनी परेशानियां खुद हल करने की स्थिति में आयें। राजेवाल ने कहा कि लोगों के दबाव के चलते हमें ये फैसला करना पड़ा। हर वर्ग की मांग है कि किसानों को चुनाव में उतरना चाहिए। इसमें हर वर्ग योगदान देगा। लोगों की हमसे आस बढ़ी है तो उनकी भावनाओं का ख्याल रखते हुये मोर्चा ने नयी पार्टी का बनाकर चुनाव में उतरने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि जहां तक किसी सियासी पार्टी से चुनावी तालमेल का सवाल है तो उसके बारे में जल्द कोई फैसला लिया जाएगा। आगे की रणनीति पर विचार करने के बाद आप को अवगत कराया जायेगा। राजेवाल ने कहा कि पंजाब की जवानी नशे से बर्बाद हो रही है तथा जवान बच्चे विदेश जा रहे हैं। ऐसे में रोजगार से लेकर नशे के खात्मे को लेकर हम गंभीर हैं। हम पंजाब की जनता को विश्वास दिलाते हैं कि उनके हितोंं को ध्यान में रखकर कोई फैसला लिया जायेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper